आज से कांग्रेस का अधिवेशन, पार्टी की दिशा तय करेंगे राहुल गांधी

नई दिल्ली ( 16 मार्च ): 3 मार्च को सोनिया गांधी के आवास पर आयोजित डिनर में 20 छोटी-बड़ी पार्टियों के नेता पहुंचे। अगले ही दिन यूपी की गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट बीजेपी के हाथ से खिसक गयी। बिहार की अररिया लोकसभा सीट पर भी बीजेपी के मंसूबों पर पानी फिर गया। अब कांग्रेस 2019 के लिए अपनी रणनीति को नए सिरे से धार देने में लगी हुई हैं। ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी का 84वां अधिवेशन दिल्ली में 16, 17 और 18 मार्च को इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम होने जा रहा है। कांग्रेस अधिवेशन के पहले दिन 16 मार्च  को स्टीयरिंग कमेटी यानी कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक बुलाई गई है जिसमें सोनिया गांधी राहुल गांधी पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अहमद पटेल अंबिका सोनी जनार्दन द्विवेदी समेत 25 सदस्य भाग लेंगे।

17 मार्च को दिन में 10 बजे अधिवेशन की शुरूआत कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भाषण से होगी। इसी दिन शाम को संचालन कमेटी की बैठक होगी । संचालन समिति के सामने राजनीतिक प्रस्ताव लाने की जिम्मेदारी डॉक्टर मनमोहन सिंह को सौंपी गयी है। इस अधिवेशन में कई मुद्दों पर प्रस्ताव लाए जाएंगे । एक प्रस्ताव गैर-बीजेपी दलों को एक छतरी के नीचे लाने की कोशिश का भी होगा यानी गठबंधन का ब्लूप्रिंट तैयार किया जाएगा । देश की सबसे बड़ी आबादी की रोजी-रोटी से जुड़े कृषि सुधार से जुड़े मुद्दों पर भी मंथन होगा । 

राहुल गांधी ने साफ-साफ कह दिया है कि अधिवेशन में सिर्फ नेता ही नहीं बोलेंगे। युवा प्रतिनिधियों को भी अपनी बात रखने का पूरा मौका दिया जाएगा। राहुल जल्दी ही अपनी नई टीम यानी कांग्रेस वर्किंग कमेटी चुनने वाले हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि राहुल की नजर कांग्रेस के अधिवेशन में हर ऑउट ऑफ वॉक्स आइडिया और जोश से लवरेज युवा नेताओं पर होगी । देश के ज्यादा से ज्यादा लोगों को कांग्रेस से कैसे जोड़ा जाए..इस पर भी अधिवेशन में रणनीति बनेगी । इस अधिवेशन से राहुल गांधी 2019 में कांग्रेस के लिए जीत का मंत्र निकालने की कोशिश करेंगे।