कांग्रेस का ममता, स्टालिन, नवीन पटनायक को पत्र, 'मोदी-शाह की रची साजिश है केसीआर का फेडरल फ्रंट'

नई दिल्ली ( 5 मई ): 2019 का लोकसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है देश की सियासत वैसे वैसे गर्म होती जा रही है। बीजेपी के खिलाफ कांग्रेस विपक्षी एकजुटता मजबूत करने में लगी है, तो वहीं टीआरएस प्रमुख के. चंद्रशेखर राव(केसीआर) ने फेडरल फ्रंट की कवायद तेज कर दी है। इस बीच कांग्रेस ने केसीआर के अभियान को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की साजिश बताया है। कांग्रेस ने टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी, डीएमके नेता एमके स्टालिन, बीजेपी चीफ नवीन पटनायक और अन्य विपक्षी नेताओं को चिट्ठी लिखकर आरोप लगाया है कि केसीआर के फेडरल फ्रंट की कवायद नरेंद्र मोदी और अमित शाह  के इशारे पर हो रही है।तेलंगाना राष्ट्र समिति के मुखिया और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने पिछले दिनों एसपी प्रमुख अखिलेश यादव से भी मुलाकात की थी। इससे पहले केसीआर ने अपनी पार्टी के 17वें स्थापना दिवस पर कांग्रेस और बीजेपी को आगाह करते हुए कहा कि देश आने वाले महीनों में नया शासन देखेगा और वे इसके लिए क्षेत्रीय दलों को एकजुट करेंगे। अब कांग्रेस ने केसीआर की इस कवायद की हवा निकालने की कोशिश की है। तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमिटी के जनरल सेक्रटरी श्रवण ने ममता बनर्जी, एमके स्टालिन, नवीन पटनायक समेत कई नेताओं को पत्र लिखा है।तेलंगाना कांग्रेस ने आरोप लगाते हुए लिखा है कि केसीआर का फेडरल फ्रंट ढोंग है और पीएम मोदी व अमित शाह के इशारे पर रची गई राजनीतिक साजिश है। दरअसल केसीआर ने हाल के दिनों में फेडरल फ्रंट बनाने की अपनी कवायदों को तेज कर दिया है। इसी क्रम में केसीआर ने 10 मई को हैदराबाद में कई क्षेत्रीय दलों के प्रमुखों को निमंत्रण भी भेजा है जिसमें ममता बनर्जी, एमके स्टालिन, बीजेडी के नवीन पटनायक, एसपी के अखिलेश यादव और जेएमएम नेता हेमंत सोरेन शामिल हैं।