'नोटबंदी की विफलता को दबाने के लिए मोदी सरकार ने प्रद्यम्न मर्डर केस को उछाला'

नई दिल्ली(8 नवंबर): नोटबंदी को आज एक साल पूरे हो गए। केंद्र सरकार जहां इसे 'एंटी ब्लैक डे' के रूप में मना रही है तो वहीं विपक्ष इसे 'ब्लैक डे' के रूप में मना रहा है। विपक्ष के इस प्रदर्शन को मुख्यधारा मीडिया में वह स्थान नहीं मिला जिसकी वह उम्मीद कर रहे थे। इसका कारण रहा गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुए 7 साल के छात्र प्रद्यम्न की हत्या मामले में आया नया मोड़।

दरअसल सीबीआई ने प्रद्यम्न की हत्या के आरोप में 11वी क्लास के एक छात्र को हिरासत में लिया है। ऐसे में आज मुख्यधारा मीडिया में प्रद्यम्न की हत्या से जुड़ी कहानी चलती रही। ऐसे में कांग्रेस ने अब सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है।

कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सरकार ने प्रद्यम्न की कहानी उछाल कर लोगों को नोटबंदी से हुई तकलीफ से ध्यान भटकाने के लिए किया है। सुरजेवाला ने कहा कि सरकार ने सीबीआई का इस्तेमाल किया है। जिससे कि मीडिया हाउस लोगों को नोटबंदी से हुई तकलीफ की कहानियां नहीं चला सके।

बताते चलें कि प्रद्यम्न मर्डर केस में सीबीआई ने आज 11वीं के छात्र को हिरासत में लिया है। आरोपी छात्र रेयान स्कूल में ही पढ़ता है। छात्र गुड़गांव के गांव दौला का रहने वाला है।

सीबीआई ने इस मामले में बस कंडक्टर के साथ ही स्कूल के माली हरपाल, कई टीचर, नॉन टीचिंग स्टाफ और मैनेजमेंट जुड़े लोगों से पूछताछ की थी। यहां तक की सीबीआई ने बस कंडक्टर और माली के साथ रेयान इंटरनेशनल स्कूल जाकर क्राइम सीन रिक्रिएट किया था। जिस टॉयलेट में वारदात को अंजाम दिया गया वहां भी जांच की गई थी। बताते चलें कि रेयान इंटरनेशनल स्कूल में दूसरी क्लास में पढ़ने वाले 7 साल के छात्र प्रद्युम्न ठाकुर के साथ कुकर्म की कोशिश के बाद उसकी गला रेतकर बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। इस मामले में बस कंडक्टर अशोक समेत तीन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। आरोपी अशोक कुमार ने पहले अपना जुर्म कबूल किया था, लेकिन अब इससे इंकार कर रहा है।