‘रेडी टू अटैक’ के लिए सेना के पास हथियार नहीं- कांग्रेस

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (27 जून): कांग्रेस ने एकबार फिर मोदी सरकार पर सेना के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगाया है। कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि बीजेपी को सेना के नाम पर अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकना बंद कर देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जब साल 2014 में बीजेपी की सरकार बनी थी, तब बड़े-बड़े दावे हुए थे। रक्षा क्षेत्र में 'मेक इन इंडिया' को लेकर तमाम दावे किए गए थे। सरकार की तरफ से 25 बड़ी परियोजनाओं की घोषणा हुई थी। जो पैसे मेक इन इंडिया में लगाने चाहिए थे, वो पैसे बीजेपी खुद के प्रचार में खर्च कर रही है, इसलिए 'मेक इन इंडिया' फेल हुआ।कांग्रेस प्रवक्ता ने आरोप लगाया कि डोकलाम में गतिरोध हुआ और उरी में हमला हुआ, इसके बाद जो रक्षा उपकरण खरीदे गए, उनका भुगतान भी नहीं हो पा रहा है। सैनिकों के नाम पर वोट तो चाहिए, लेकिन सरकार को उनकी परेशानियों की कोई चिंता नहीं है। मोदी सरकार की न नीयत साफ है, न सोच साफ और न ही नीति साफ है। यही इस सरकार का रिपोर्ट कार्ड है। उन्होंने कहा कि आए दिन सीमा पर, नक्सली हमले में हमारे जवान शहीद हो रहे हैं। हमारे जवानों के पास बजट नहीं है, ‘रेडी टू अटैक’ हथियार नहीं हैं। सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि आधुनिकीकरण के लिए जितने बजट की मांग की जा रही है, उसे पूरा किया जाए। साथ ही प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि अगर केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनी तो सेना को उनकी डिमांड के अनुसार मनचाही बजट दी जाएगी और सबसे पहले फौज को रेडी टू अटैक आर्म्स से लैस करेगी।प्रियंका चतुर्वेदी ने मोदी सरकार पर देश की आंतरिक सुरक्षा से समझौता का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा जवानों के पास मौजूद 68 फीसदी हथियार किसी काम के नहीं हैं। रक्षा बजट चार वर्षों में लगातार घटा है। रक्षा मंत्री पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में 380 से ज़्यादा जवान शहीद हो चुके हैं। इसका जवाब अब तक रक्षामंत्री दे नहीं पाईं. वो चीन में जाकर हाथ मिलाती हैं, लेकिन जवानों को निहत्था रखा हुआ है। पीएम के पास भी ये रिपोर्ट जाती है, लेकिन वो बजट के लिए वित्त मंत्रालय को कोई निर्देश नहीं देते।