UP में शीला पर दांव, 'महिला CM' का तिलस्म

नई दिल्ली (14 जुलाई): उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की तरफ से शीला दीक्षित को मुख्यमंत्री पद का चेहरा घोषित किए जाने के बाद राजनैतिक गलियारों में हलचल मच गई है। इसे कांग्रेस की तरफ से महिला सीएम का दांव माना जा रहा है। अगर देश की राजनीति पर गौर किया जाए तो महिला सीएम का दांव हाल फिलहाल में काफी सफल होता रहा है।

उत्तर प्रदेश में शीला दीक्षित की तरफ से प्रतिद्वंदी मायावती को कड़ी चुनौती मिलेगी। वहीं शीला एक ब्राह्मण चेहरा हैं, तो बीजेपी के सवर्ण आकर्षण को भी चटकाने में वह अहम भूमिका निभा सकती हैं। ऐसे में कांग्रेस का यह फैसला काफी अहम हो जाता है। 

शीला दीक्षित दिल्ली में 15 साल तक तीन बार मुख्यमंत्री पद पर रहीं। भले ही उन्हें आखिरी चुनाव में जबरदस्त हार मिली। और आम आदमी पार्टी के उभरने पर बड़ी हार का सामना करना पड़ा। लेकिन अगर विकास के मुद्दे पर नजर डाली जाए, तो उनके पक्ष में कई उपलब्धियां रहीं हैं। ऐसे में यूपी में सत्ताधारी समाजवादी पार्टी जो अपने किए विकास की उपलब्धियां गिनाकर इस मुद्दे को आगे कर रही है। ऐसे में शीला समाजवादी पार्टी को भी कड़ी टक्कर देंगी। कुल मिलाकर कांग्रेस के इस फैसले से विरोधी पार्टियों में हलचल जरूर मच गई है।  

अगर देश के दूसरे प्रदेशों में देखा जाए तो हर दिशा में महिला मुख्यमंत्रियों का शासन दिखाई दे रहा है। उत्तर में जम्मू कश्मीर में महबूबा मुफ्ती, तो दक्षिण के तमिलनाडू में जयललिता। वहीं पूर्व में पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी से लेकर पश्चिम में गुजरात में आनंदी बेन काफी प्रभावशाली ढंग से समकक्ष पुरुष राजनेताओं को काफी कड़ी टक्कर दे रही हैं। ऐसे में गौर किया जाए, तो कांग्रेस की तरफ से शीला को यूपी में आगे करने का फैसला काफी सोच समझ कर लिया गया है।

बता दें, यूपी में प्रचार की कमान खुद प्रियंका गांधी संभालने वाली हैं। ऐसे में कांग्रेस की दो दिग्गज महिलाएं क्या नतीजे लाती हैं। ये आने वाले समय में देखना काफी दिलचस्प होने वाला है।