"बीजेपी तोड़ना चाहती थी कांग्रेस के 22 विधायक"


बेंगलुरु (30 जुलाई): कांग्रेस ने बेंगलुरु में अपने 44 विधायकों की मीडिया के सामने परेड कराई। यह सभी विधायक एक रिजॉर्ट में ठहरे हुए हैं। कांग्रेस नेता शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि सभी विधायक यहां अपनी मर्जी से आए हैं और उनसे उनके मोबाइल ले लिए जाने की खबरें झूठी हैं।

गुजरात में 8 अगस्त को राज्यसभा की 3 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे, लेकिन कांग्रेस के कुछ विधायकों के इस्तीफे के बाद पार्टी उम्मीदवार अहमद पटेल का राज्यसभा चुनाव जीतना मुश्किल होता जा रहा है। शक्ति सिंह गोहिल ने बीजेपी पर कांग्रेस को तोड़ने के साम, दाम, दंड, भेद समेत हर तरह के हठकंडे अपनाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि राजनीति में विरोधी को कमजोर करने के लिए तमाम तरीके अपनाए जाते हैं, लेकिन बीजेपी सारी मर्यादाओं को तोड़ रही है और निचले स्तर पर जा रही है।

गोहिल ने कहा कि बीजेपी सरकारी मिशनरी का दुरुपयोग कर रही है। बीजेपी की चाल थी कि कांग्रेस के कुल 22 विधायकों को पैसे से खरीदकर इस्तीफा दिलवाया जाए। विधायकों को 15-15 करोड़ रुपये का लालच दिया गया, लेकिन हमारे विधायक नहीं बिके, हमारे विधायक गुंडों से नहीं डरे, इसलिए विधायकों को धन्यवाद।

गोहिल ने कहा कि अहमद पटेल को जीतने के लिए 45 विधायकों के वोट की जरूरत है और उसके लिए कांग्रेस के पास पर्याप्त से ज्यादा विधायक हैं। कांग्रेस के 57 विधायक हैं। एनसीपी के साथ हमारा सीटों का गठबंधन था जिसके 2 विधायक हैं, एक जेडीयू के साथी हमारे साथ हैं। हमारे साथ कुल 60 विधायक हैं। हमें राज्यसभा की एक सीट पर जीत के लिए 45 विधायकों की जरूरत है।