वंदे मातरम गाने के लिए ना करें जबरदस्ती: राजीव शुक्ला

नई दिल्ली(30 मार्च): उत्तर प्रदेश में योगी राज कायम होते ही मेरठ के नगर निगम में भी उसका असर देखने को मिला। मेरठ के नगर निगम के सदन में बैठक के दौरान भारी हंगामा हुआ। हंगामे के बीच वंदे मातरम का बहिष्कार करने वालों को सदन से बाहर कर दिया गया। पूरे मामले में कांग्रेस सांसद राजीव शुक्ला ने बीजेपी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि किसी को वंदे मातेरम गाने के लिए जबरदस्ती नहीं कर सकते, हालांकि मुस्लिमों को ये गाना चाहिए।


क्या है पूरा मामला...


- दरअसल मेरठ के नगर निगम में वंदे मातरम गाने को लेकर जमकर हंगामा हुआ। भाजपा सभासदों ने सदन में वंदे मातरम गाने को जरूरी बताया तो मुस्लिम सभासदों ने वंदे मातरम गाने से इंकार कर दिया जिसके बाद सभासदों के बीच इस मामले को लेकर जोरदार बहस हुई और नारेबाजी हुई। मामला गर्माने के बाद मेरठ के मेयर को हस्तक्षेप करना पड़ा। मेयर ने ध्वनिमत के जरिए वंदे मातरम को गाना सभी सदस्यों के लिए अनिवार्य करने का प्रस्ताव पास किया। हालांकि प्रस्ताव को लागू करने के लिए अभी सरकार की तरफ से मंजूरी मिलनी बाकी है।