चीनी राजदूत से मुलाकात पर बोले राहुल गांधी, कहा- जानकारी लेना मेरी जिम्मेदारी

नई दिल्ली (10 जुलाई): सिक्किम में भारत और चीन के बीच तनाव जारी है। चीनी राजदूत से मुलाकात करने को लेकर आलोचना का सामना कर रहे कांग्रेस उपाध्‍यक्ष ने इस सिलसिले में ट्वीट कर अपनी बात रखी है। राहुल गांधी ने कहा, महत्‍वपूर्ण मुद्दों पर जानकारी लेना मेरा काम है। मैं चीनी राजदूत से मिला। पूर्व राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, पूर्वोत्तर के कांग्रेसी नेताओं और भूटान के राजदूत से भी मुलाकात की।

 

राहुल गांधी ने कहा कि अगर सरकार चीनी राजदूत के साथ मेरी मुलाकात को लेकर इतनी ही चिंतित है, तो उन्‍हें इस बात का जवाब भी देना चाहिए कि जब सीमा पर विवाद है तो क्‍यों 3 मंत्री चीन की यात्रा पर हैं। और बता दूं कि मैं वह शख्‍स नहीं हूं जो झूले पर बैठा रहा जब हजार की संख्‍या में चीनी सैनिक भारत में घुस आए थे।

भारत तथा चीन के बीच सिक्किम में जारी गतिरोध के दौरान कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने चीन के भारत में राजदूत से मुलाकात की थी, कांग्रेस पार्टी ने इस बात की सोमवार को पुष्टि की और पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि "बैठक को सनसनीखेज़ मुद्दा बनाने की ज़रूरत नहीं है।"


हालांकि कांग्रेस ने इस मुलाकात को पहले तो झूठा करार दिया था, लेकिन चीनी दूतावास की ओर से सोशल मीडिया पर पोस्ट तस्वीरें पोस्ट करने के बाद कांग्रेस के बयान बदल गए। कांग्रेस का कहना है कि राहुल गांधी के साथ ही पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रहे शिवशंकर मेनन ने भी चीनी राजदूत से मुलाकात की है। यही नहीं, दोनों ने भूटानी राजदूत से भी मुलाकात की है। पर ये महज शिष्टाचार वश थी। इसके अलग मायने नहीं निकाले जाने चाहिए। जिसके बाद राहुल गांधी का यह बयान आया है।


वैसे, राहुल की इस मुलाकात पर बढ़ने विवादों के बीच चीनी दूतावात ने उन जानकारियों को वेबसाइट से हटा दिया है, जिसमें राहुल से मुलाकात की जानकारी दी गई थी।