'नेहरू ने नहीं लिखा था ब्रिटिश PM को पत्र, गुमराह कर रही हैं मोदी सरकार'

नई दिल्ली (23 जनवरी): पीएम मोदी द्वारा सार्वजनिक की गईं नेताजी सुभाष चंद्र बोस की फाइलों को लेकर कांग्रेस ने बयान दिया है। कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि जिस तरह मोदी ने यह सब (फाइल्स को डिक्लासीफाइ) किया, उससे सरकार के इरादों पर शक होता है। देश को यह समझना चाहिए। 

कांग्रेस एक लेटर को मानती है जाली नेताजी को लेकर सरकार जानबूझकर विवाद खड़ा करने की कोशिश कर रही है। कांग्रेस नेहरू द्वारा कथित तौर पर ब्रिटिश पीएम एटली को लिखे पत्र को जाली मानती है। कांग्रेस ने कहा है कि हम इसको एक्सपोज करेगी और जिम्मेदार लोगों के खिलाफ एक्शन लेंगे। कांग्रेस के अलावा सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि सुभाष चंद्र बोस को 'लीडर ऑफ द नेशन' का दर्जा मिलना चाहिए। क्योंकि वो इस सम्मान के हकदार हैं।

जवाहर लाल नेहरू द्वारा इंग्लैंड के तब के पीएम क्लीमेंट एटली को लिखी वो चिट्‌ठी भी मिली है, जिसमें नेहरू ने बोस को वॉर क्रिमिनल कहा था। ये चिटि्ठयां नेहरू ने 27 दिसंबर, 1945 को लिखी थीं। लेकिन इसके नीचे नेहरू का सिर्फ नाम लिखा है। उनका सिग्नेचर नहीं है।