बाबा केदार की सुरक्षा करेगी कंक्रीट की दीवार

अधीर यादव, केदारनाथ (8 सितंबर): सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो 2013 में आपदा का दंश झेल चुकी बाबा केदार की नगरी में अब कभी बर्बादी का वो मंजर दोहराया नहीं जायेगा। केदारनाथ में बर्बादी का सबब बने चौराबारी गलेशियर व बाबा के मंदिर के बीच 350 मीटर लंबी कंक्रीट की ऐसी दिवार बना दी गयी है, जो पानी व मलबे के किसी भी सैलाब को मंदिर की तरफ जाने ही नहीं देगी।

2 साल से ज्यादा समय में बनकर तैयार हुई ये दिवार 2 मीटर जमीन के अंदर जबकि 4 मीटर जमीन के ऊपर है, जो मंदिर की और आने वाले किसी भी सैलाब को मंदाकिनी व सरस्वती नदी में मोड़ देगी। मंदिर के पीछे 200 मीटर दूर तीन प्रकार की सुरक्षा दीवारों का निर्माण कार्य किया जा रहा है। प्रथम चरण में 350 मीटर लंबी और छह मीटर ऊंची आरसीसी सुरक्षा दीवार का निर्माण कार्य पुरा कर लिया गया है।

16-17 जून 2013 को आई आपदा से केदारपुरी में भारी तबाही मची थी। इस तबाही में 4 हजार 6 सौ से ज्यादा तीर्थ यात्री अकाल मृत्यु के शिकार हो गए थे, जबकि बाबा केदार का धाम पूरी तरह से उजड़ गया था।