आतंकी वानी के भाई के लिए महबूबा सरकार ने किया मुआवजे का ऐलान

नई दिल्ली (13 दिसंबर): जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती सईद पर एक बड़ा आरोप लगा है। खबर के अनुसार, महबूबा सरकार ने डेढ़ साल पहले त्राल के जंगल में सुरक्षाबलों व आतंकियों के बीच मुठभेड़ के दौरान क्रॉस फायरिंग में मारे गए आतंकी बुरहान वानी के बड़े भाई की मौत पर चार लाख का मुआवजा दिया है।

खालिद मुजफ्फर वानी उन 106 लोगों में शामिल है, जिसकी सेना की कार्रवाई में मौत हुई थी। सेना के ऑपरेशन के दौरान जो लोग घायल हुए थे या मारे गए थे, उनके लिए सरकार ने मुआवजे का ऐलान किया है। हालांकि वानी के पिता ने पैसा लेने से इंकार करते हुए, दिवंगत के छोटे भाई के लिए सरकारी रोजगार की इच्छा का संकेत दिया है।

जिला उपायुक्त पुलवामा के कार्यालय ने बीते दो सालों के दौरान आतंकी हमलों में मारे गए, जख्मी, क्षतिग्रस्त संपत्ति के ब्यौरे के साथ उन लोगों की सूची जारी की है, जिनके मौत अथवा नुकसान के आधार पर संबधित लोगों को मुआवजा जारी किया जा रहा है। इस सूची में खालिद मुजफ्फर वानी का नाम क्रमांक 9 पर है। आतंकी हमलों के दौरान या मुठभेड़ में मारे गए लोगों के उन परिजनों को मुआवजा दिया जाता है, जो आतंकी न हों।

खालिद मुजफ्फर वानी गत 13 अप्रैल 2015 को उस समय त्राल के जंगल में मारा गया था, जब वह वहां अपने चार साथियों के साथ तथाकथित तौर पर पिकनिक मनाने गया था। उस समय वहां बुरहान भी आया था और इसी दौरान हुई मुठभेड़ में खालिद की क्रास फायरिंग में मौत हुई थी।