करोड़ों जुटाकर लापता हो गईं ये कंपनियां

नई दिल्ली(3 दिसंबर):  निवेशकों से करीब 312 करोड़ रुपये की रकम जुटाने के बाद 78 कंपनियां गायब हो गई हैं। इनके बारे में किसी भी तरह की जानकारी नहीं मिल पा रही है। इन कंपनियों में सबसे अधिक गुजरात से हैं। केंद्र सरकार ने एक सवाल के जवाब में शुक्रवार को लोकसभा में यह जानकारी दी। निवेशकों से मोटी रकम जुटाने के बाद फरार होने वाली कंपनियां तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, पंजाब और ओडिशा से हैं।

गायब हुई कंपनियां वह हैं जो संबंधित डॉक्युमेंट्स और बैलेंस शीट फाइल करने में नाकाम रहीं। इन कंपनियों ने पब्लिक इशूज के जरिए फंड जुटाया था और अब इनका कोई अता-पता नहीं है। गुजरात के बाद सबसे अधिक ऐसी 13 कंपनियां आंध्र प्रदेश की है। तमिलनाडु में 10 कंपनियां फंड जुटाने के बाद फरार हो गईं। वहीं, मोटा निवेश हासिल करने के बाद महाराष्ट्र में भी 9 कंपनियों की कोई खबर नहीं है। पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश और दिल्ली में भी 5-5 कंपनियों के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है।

कॉर्पोरेट मामलों के राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने लोकसभा में दिए लिखित जवाब में बताया कि शुरुआत में मंत्रालय ने ऐसी कुल 238 कंपनियों के बारे में पड़ताल की थी, जो फंड लेने के बाद लापता हो गईं। इस पड़ताल में मंत्रालय ने 160 कंपनियों को ट्रेस कर लिया। लेकिन अब भी 78 कंपनियों के बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पाई है।

इस बीच मंत्रालय ने धोखाधड़ी करने वाली 185 कंपनियों के खिलाफ जांच के लिए सीरियस फ्रॉड इनवेस्टिगेशन ऑफिसर को जिम्मेदारी सौंपी है। यह आंकड़ा बीते 3 सालों का है। इस साल ऐसी 24 कंपनियां हैं, जिनके खिलाफ मौजूदा वित्त वर्ष में धोखाधड़ी के आरोप सामने आए हैं।