कर्नल पुरोहित को सेना का निर्देश, मीडिया से बनाए रखें दूरी- सूत्र

जयपुर (24 अगस्त): मालेगांव ब्लास्ट मामले में सुप्रीम कोर्ट से राहत मिलने के बाद कर्नल प्रसाद श्रीकांत पुरोहित एकबार फिर से अपनी नौकरी ज्वाइंन कर ली है।  जेल से रिहा होने के बाद सेना की दक्षिण कमान यूनिट (खुफिया विंग) को रिपोर्ट की। हालांकि कर्नल पुरोहित पर अनुशासनात्मक और निगरानी (डिसिप्लिनरी एंड विजिलेंस) प्रतिबंध लागू रहेगा यानी वह निलंबन के तहत यूनिट में रहेंगे। उनको किसी सक्रिय ड्यूटी पर नहीं तैनात किया जाएगा।

इन सबके बीच ड्यूटी ज्वाइंन करते ही कर्नल पुरोहित ने 15 दिनों की छुट्टी की अर्जी दी, जिसे सेना ने स्वीकार कर लिया है। जिसके बाद 9 साल बाद कुछ देर पहले वे मुंबई से पुणे अपने घर आने के लिए रवाना हुए हैं। सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक सेना ने कर्नल पुरोहित को मीडिया में बयान देने और उससे दूरी बनाए रखने के लिए कहा है। साथ ही बताया जा रहा है कि कर्नल पुरोहित जल्द ही आर्मी रेजिमेंट को ज्वाइन कर सकते हैं। नियम के मुताबिक, सस्पेंड होने के बाद एक ऑफिसर अपनी ड्रेस नहीं पहन सकता।

आपको बता दें कि मालेगांव ब्लास्ट केस में नाम आने और गिरफ्तारी के तुरंत बाद सेना ने उन्हें सर्विस से सस्पेंड कर दिया था। जेल में रहने के दौरान उन्हें अपनी तनख्वाह और अलाउंस का सिर्फ 25 प्रतिशत ही मिल रहा था। बाद में आर्म्ड फोर्स ट्रिब्यूनल ने इसे 75 प्रतिशत तक बढ़ा दिया था।