कोलोन सेक्सुअल अटैक्सः ' वो मुझे तब तक छूते रहे जब तक मैं बेहोश नहीं हो गयी'

नई दिल्ली (11जनवरी): कोलोन में हुए सेक्सुअल असॉल्ट की एक पीड़िता की कहानी एक स्थानीय टीवी चैनल पर सुनने के बाद लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर है। 'डेलीमेल डॉट को डॉट यूके' ने लिखा है कि पीड़ित लड़की ने रोते हुए एक टीवी चैनल  पर कहा कि ' मैं उनसे घर जाने की गुहार करती रही लेकिन उन लोगों की भीड़ बार-बार मुझे हर जगह छूती रही, मैं बेहोश गयी...'।

पीड़ित लडकी इस व्यथा को सुनकर पूरे जर्मनी में शरणार्थियों और एंजेला के खिलाफ प्रदर्शन शुरु हो गए हैं। लोगों के गुस्से को देखते हुए जस्टिस मिनिस्टर हीकी मॉस को सामने आना पड़ा। उन्होंने कहा है कि कोलोन में हुए 'सेक्स अटैक्स' और कई अन्य शहरों में हिंसक घटनाएं प्रीप्लांड थीं। जर्मन सरकार को शरणार्थियों ऐसे व्यवहार की अपेक्षा नहीं थी।

'डेलीमेल डॉट को डॉट यूके' में छपी रिपोर्ट्स के मुताबिक अभी तक सिर्फ कोलोन पुलिस के पास पांच सौ से ज्यादा महिलाओं ने शिकायतें दर्ज करवाई हैं। इनमें से ज्यादातर का आरोप है कि शरणार्थियों की भीड़ ने उन्हें सेक्सुअली अब्यूज किया है। जर्मनी की क्रिमिनल पुलिस के हवाले से लिखा गया है कि नये साल के मौके पर हुई वारदात में उत्तरी अफ्रीकी देशों के लोग शामिल हैं। ये लोग सेंट्रल रेलवे स्टेशन के पास एक बड़े ग्रुप में थे। इन्होंने जर्मन महिलाओं और लड़कियों को पहचान कर अटैक किये। इन वारदात से दुखी जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने कहा कि जो भी अपराधी प्रवृत्ति के शरणार्थियों को वापस भेज दिया जायेगा। (देखिए विडियो)

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=VNdFHgPdrOk[/embed]