बीजेपी मंत्री ने कहा कलीजियम लोकतंत्र पर धब्बा

नई दिल्ली (6 जून): भाजापा के विधायक और मंत्री आए दिन विवादित बयान देते रहते हैं। एक बार फिर मोदी सरकार के विवादित बयान दिया है। केंद्र की मोदी सरकार में मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने न्यायपालिका में जजों की नियुक्ति करने वाले कलीजियम सिस्टम को लोकतंत्र पर धब्बा करार दिया है। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के मुखिया ने कहा कि न्यायपालिका की मौजूदा व्यवस्था की बात करें तो जज दूसरे जजों की नियुक्ति नहीं करते बल्कि वह उत्तराधिकारी चुनते हैं। वह ऐसा क्यों करते हैं? उत्तराधिकारियों के चयन के लिए ऐसी व्यवस्था क्यों बनाई गई?केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री का यह बयान सीधे तौर पर जजों की नियुक्ति वाली कलीजियम व्यवस्था पर हमला है। आपका बता दें कि केंद्रीय मंत्री ने सोमवार को पटना में एक कार्यक्रम के दौरान यह बात कही।कलीजियम व्यवस्था की तुलना आरक्षण से करते हुए कुशवाहा ने कहा कि लोग रिजर्वेशन का विरोध करते हैं। कहा जाता है कि इसमें मेरिट को नजरअंदाज किया जाता है। एक चाय वाला प्रधानमंत्री बन सकता है, मछुआरे का बेटा वैज्ञानिक बन सकता है और फिर देश का राष्ट्रपति हो सकता है। लेकिन क्या किसी मेड का बेटा जज बन सकता है। कलीजियम की व्यवस्था हमारे लोकतंत्र पर धब्बे की तरह है।