पतंजलि के सामने कोलगेट के CEO ने मानी हार, कही ये बड़ी बात...

नई दिल्ली (24 जुलाई): बाबा रामदेव की कंपनी पतंजिल से देश में टूथपेस्ट और टूथब्रश के कारोबार में सबसे बड़ी कंपनी कोलगेट पामोलिव को कड़ी चुनौती मिल रही है, इस बात को ग्लोबल सीईओ इयान कुक ने भी माना है।

मुंबई में कॉन्फ्रेंस काल के जरिए उन्होंने अपने निवेशकों को बताया कि भारत में उपभोक्ताओं की बदलती प्राथमिकताओं को देखते हुए उन्हें भी कारोबार की रणनीति बदलनी होगी। पतंजलि के दंतकांति टूथपेस्ट की वजह से पिछले साल कोलगेट के टूथपेस्ट की बिक्री में 10 साल में सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली है।

कोलगेट के सीईओ ने पतंजलि से मिल रही चुनौती की बाद तब स्वीकारी है जब पिछले साल भारत में कंपनी के टूथपेस्ट मार्केट शेयर में 1.8 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है। वित्तवर्ष 2016-17 के दौरान कंपनी की बिक्री में करीब 4 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है क्योंकि भारत में उपभोक्ता पतंजलि के उत्पादों की तरफ आकर्षित हो रहे हैं।

कोलगेट के सीईओ इयान कुक के मुताबिक पतंजलि और कोलगेट की इस प्रतिसपर्धा में विजेता बनकर वही उभरेगा जो उपभोक्ताओं को ज्यादा बेहतर तरीके से समझेगा और उनकी जरूरत के हिसाब से उत्पाद तैयार करेगा। कोलगेट पामोलिव करीब 16 अरब डॉलर की मल्टीनेशनल कंपनी है, लेकिन पतंजलि से इसको कड़ी चुनौती मिल रही है और पतंजलि तेजी से कोलगेट के मार्केट शेयर को खा रही है। पिछले साल ही पतंजलि 10 हजार करोड़ रुपए की कंपनी बनी है और इस मुकाम तक पहुंचने के लिए उसको 10 साल से भी कम का वक्त लगा है।