बड़ी साजिश का खुलासा, पहले से तय थे डेरा के 4250 और 1650 कोड वर्ड

नई दिल्ली ( 28 अगस्त ): डेरा सच्‍चा सौदा चीफ राम रहीम को पंचकूला कोर्ट ने रेप का दोषी ठहराया है। फिलहाल वो रोहतक जेल में है और आज यानी 28 अगस्‍त 2017 को राम रहीम के सजा का ऐलान होना है। इसी बीच गुरमीत राम रहीम के दोषी करार दिए जाने के बाद भड़की हिंसा में नया बड़ा खुलासा हुआ है। वो ये कि बाबा को दोषी ठहराए जाने के बाद पंचकूला में जो हिंसा फैली थी उसके पीछे सिर्फ राम रहीम के समर्थक नहीं थे बल्‍कि भाड़े पर लाए गए कुछ लोग भी शामिल थे। इतना ही नहीं भाड़े पर बुलाए गए उपद्रवियों को कोडवर्ड भी जारी किया गया था। कोडवर्ड था 4250 और 1650। इसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की तो रामरहीम के 5 भक्तों को डेरा सच्चा सौदा के डेरे से गिरफ्तार किया।

पकड़े गए बाबा भक्तों से जब पुलिस ने हिंसा के बारे में पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि 16 अगस्त को सिरसा में डेरा प्रेमियों की बैठक में हिंसा की साजिश रची गई थी। इसमें सजा सुनाए जाने के बाद जिला मुख्यालयों के सारे सरकारी कार्यालयों और रोडवेज की बसों को आग के हवाले करने की योजना बनाई गई थी। यह सनसनीखेज खुलासा पेट्रोल बम फेंककर सरकारी कार्यालयों में आग लगाने वाले गिरफ्तार डेरा प्रेमियों ने किया है।

श्रीगंगानगर के जवाहर नगर थाना प्रभारी शकील अहमद ने बताया कि पकड़े गए बाबा भक्तों ने बताया कि 16 अगस्त को सिरसा में डेरा प्रेमियों की बैठक हुई थी जिसमें तय हुआ था कि फोन पर कोड 4250 बताना था उसके बाद पेट्रोल बमों से सरकारी कार्यालय और बसें-गाड़ियां जलानी थीं। इसका कोड का मतलब था बाबा गए। वहीं बाबा के बरी होने पर फोन पर कोड वर्ड बताना था 1650। इस कोर्ड का मतलब शहर में मार्च निकालकर एक दूसरे को बधाईयां देना और मिठाइयां खिलाना रखा गया था।

राम रहीम के खिलाफ फैसला आने के तुरंत बाद सभी वार्ड़ों के भंगीदासों के मोबाईल पर 4250 कोड फ्लैश हुआ और फिर हिंसा शुरु हो गई। मोटर साइकिल से पेट्रोल निकालकर पेट्रोल बम फेंकने शुरू कर दिए गए और शहर में जगह-जगह आगजनी की घटनाएं होने लगी। कोर्ड का मतलब श्रीगंगानगर के सभी कोर्ट को जला डालना था लेकिन जैसे ही राम रहीम भक्तों ने लेबर कोर्ट में आ लगाई पूरे शहर में पुलिस का मार्च शुरु हो गया। पुलिस ने डेरों पर छापा मारकर डेरा खाली कराना शुरु किया तो उसमें से एक डेरा प्रेमी का हाथ झुलसा हुआ था। उससे पूछताछ शुरु हुई तो एक-एक कर सभी डेरा इंचार्ज पकड़े जाते रहे।

श्रीगंगानगर पुलिस ने आगजनी करने वाले बाबा राम रहीम के 14 भक्तों को साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार किया है। इसके अलावा भैरों रेलवे स्टेशन जलाने के आरोप में पांच डेरा प्रेमियों को भी गिरफ्तार किया है। राम रहीम पर फैसला आने के बाद भड़की हिंसा में अबतक 38 लोगों की जान जा चुकी है। साथ ही कई इलाकों में अब भी कर्फ्यू लगा हुआ है।