कोयला घोटाला: पूर्व कोल सचिव समेत 3 अधिकारियों को 2-2 साल सजा

नई दिल्ली (22 मई): कोयला ब्लॉक आवंटन घोटाले एक मामले में दिल्ली की विशेष CBI अदालत ने पूर्व कोयला सचिव एच सी गुप्ता समेत 3 अधिकारियों को 2 साल की कैद की सजा सुनाई है। CBI कोर्ट ने एच सी गुप्ता, केएस क्रोफा समेत को भी 2-2 साल की सजा सुनाई है। सजा के अलावा दोषियों पर एक लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है। हालांकि कोर्ट की ओर से सभी दोषियों को बेल भी दे दी गई है। इसके अलावा केएसएसपीएल के मैनेजिंग डायरेक्टर पवन कुमार आहूलविया को 3 साल की सजा सुनाई गई है, वहीं उनपर 30 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है।

इससे पहले विशेष अदालत ने शुक्रवार को कोयला घोटाला मामले में पूर्व कोयला सचिव एच सी गुप्ता को दोषी करार दिया था। विशेष सीबीआई जज भारत पराशर ने कोयला मंत्रालय के तत्कालीन संयुक्त सचिव के एस क्रोफा, तत्कालीन निदेशक के सी समारिया और अन्य को भी दोषी ठहराया था। इन लोगों को मध्यप्रदेश में थेसगोड़ा-बी रूद्रपुरी कोयला ब्लॉक का आवंटन केएसएसपीएल को करने में की गई कथित अनियमितताओं के मामले में दोषी ठहराया गया था।

सुनवाई के दौरान सीबीआई ने आरोप लगाया था कि केएसएसपीएल द्वारा कोयला ब्लॉक के लिए दायर किया गया आवेदन अधूरा था और जारी दिशानिर्देशों के अनुरूप न होने के कारण इसे मंत्रालय की ओर से खारिज कर दिया जाना चाहिए था। गुप्ता के खिलाफ लगभग 8 अलग-अलग आरोपपत्र दायर किए गए थे और इनपर अलग-अलग कार्रवाई चल रही थी।