इस साल 10 लाख लोगों को रोजगार उपलब्ध करवाएंगे: सीएम योगी

नई दिल्ली (29 अगस्त): उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मानते है कि प्रदेश के युवा काफी मेधावी व होनहार हैं। मुख्यमंत्री ने लखनऊ के साइंटिफिक कंवेंशन सेंटर में आज प्रथम रोजगार समिट का शुभारंभ किया। इस कार्यक्रम में उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा के साथ श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य, राज्यमंत्री श्रम एवं सेवायोजना मनोहर लाल मौजूद थे। कार्यक्रम का आयोजन श्रम और सेवायोजन विभाग ने किया।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को 10 युवाओं को रोजगार नियुक्ति पत्र दिए। साइंटिफिक कन्वेंशन सेंटर में आयोजित समारोह में कुल 100 लोगों को रोजगार नियुक्ति पत्र दिए गए। इस दौरान सीएम योगी ने सेवायोजन विभाग का मोबाइल एप्प भी लांच किया।

रोजगार समिट में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मुझे उत्तर प्रदेश के बारे में बहुत सारे लोग प्रश्न पूछते हैं कि कैसे कार्य होगा? मैं कहता हूं सब होगा। हम सबकी सोच क्या है। अगर हमारी सोच सकारात्मक और रचनात्मक है तो सफलता मिलेगी, लेकिन अगर नकारात्मक है, तो सफलता नहीं मिलेगी।

उन्होंने कहा कि यूपी के पास देश की सबसे बड़ी युवा शक्ति है। जब मैं यूथ को देखता हूं तो सोचता हूं कि कोई भी अयोग्य नहीं है सिर्फ योजक चाहिए और यूपी सरकार योजक की तरह कार्य कर रही है। अब तक 6 लाख युवा रोजगार के लिए रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं।

इस दौरान महत्वपूर्ण कार्यक्रम में भाषणबाजी से सीएम योगी नाराज दिखे। उन्होंने कहा कि आज के कार्यक्रम में भाषणबाजी से अच्छा होता कि जिन लोगों को सर्टिफिकेट मिला, वे अनुभव साझा करते। हम आने युवा को स्वावलंबी बना दें। वे सरकार पर निर्भर होने के बजाय अपने ऊपर निर्भर रहे इसलिए पीएम मोदी ने स्किल डेवलपमेन्ट पर जोर दिया।

सीएम ने कहा कि प्रदेश में लाखों पॉलिटेक्निक से लेकर इंजीनियरिंग कॉलेज हैं, जिसमें सिर्फ डिग्री लेने का काम होता रहा है। किसी के पास कोई दिशा नहीं है जो इंजीनियरिंग कॉलेज बंद हो रहे थे। सीएम ने बताया कि ये कॉलेज बंद कर जमीन पर मैरिज हॉल, मॉल खोलना चाह रहे थे।