भ्रष्टाचार के खिलाफ एक्शन में योगी सरकार, नोएडा के तीनों अथॉरिटी होगी CAG जांच

लखनऊ (13 जुलाई): भ्रष्टाचार के मुद्दे पर योगी सरकार भी सख्त नजर आ रही है। सीएम योगी ने नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस अथॉरिटीज की जांच CAG से कराने का फैसला किया है। अभी तक इसका राज्य ऑडिट होता था। सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक सरकार पिछले 10 साल के कार्यकाल में नोएडा में हुए घोटालों की जांच कराएगी। योगी सरकार के इस कदम को भ्रष्टाचार के खिलाफ एक्शन के तौर पर देखा जा रहा है। अब केंद्र सरकार से जुड़ी एजेंसी अथॉरिटी की जांच करेगी, इससे कामकाज में पारदर्शिता बढ़ेगी।


अभी तक अथॉरिटी के खातों की जांच लोकल फंड ऑडिट डिपार्टमेंट करता था। लेकिन इस फैसले बाद सरकार ने तीनों अथॉरिटी के साथ-साथ UPSIDC को भी CAG के दायरे में लाने का फैसला किया गया है। पिछले काफी समय से फ्लैट खरीदने वाले आरोप लगा रहे थे कि मायावती और अखिलेश सरकार ने बिल्डर्स को औने-पौने दामों में ज़मीन दे दी थी। सरकार का यह फैसला खरीदारों को ध्यान में रखकर लिया गया है।