सीएम योगी बोले, अपराधियों के खिलाफ जारी रहेगा पुलिस एनकाउंटर

नई दिल्ली ( 15 फरवरी ): उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को विधान परिषद में विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। सीएम योगी ने अपराधियों के प्रति सहानुभूति व्यक्त करने का आरोप लगाते हुए कहा कि सूबे में पुलिस मुठभेड़ों का सिलसिला नहीं थमेगा।

मुख्यमंत्री ने शून्यकाल के दौरान बीजेपी सदस्य देवेन्द्र प्रताप सिंह के व्यवस्था के सवाल पर विपक्ष की तरफ इशारा करते हुए कहा, 'यह सबको पता है कि अपराधियों को संरक्षण कौन देता था। प्रदेश में पुलिस के साथ अपराधियों की मुठभेड़ की 1,200 घटनाओं में 40 दुर्दांत अपराधी मारे जा चुके हैं। आगे भी यह सिलसिला नहीं थमेगा। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ लोग जनता के प्रति जवाबदेही के बजाय अपराधियों के प्रति सहानुभूति दिखा रहे हैं। यह लोकतंत्र के लिये खतरनाक है।' 

उन्होंने विपक्ष को कठघरे में खड़ा करते हुए कहा कि नोएडा में गत 3 फरवरी को जितेंद्र यादव नामक युवक को गोली मारे जाने को पुलिस ने भी मुठभेड़ नहीं माना है। पीड़ित ने भी इससे सहमति जताई है। योगी ने कहा कि जो मुद्दा अब मुद्दा ही नहीं रहा, विपक्ष उसे मुद्दा बना रहा है। दरअसल, विपक्ष के पास अब कोई मुद्दा ही नहीं है। 

मुख्यमंत्री, दरअसल बीजेपी सदस्य देवेन्द्र प्रताप सिंह की उस सूचना पर अपनी बात कह रहे थे, जिसमें गत 13 फरवरी को विधान परिषद के सभापति रमेश यादव द्वारा नोएडा में पुलिस मुठभेड़ की एक घटना, पिछली तीन फरवरी को नोएडा में ही जितेंद्र यादव को पुलिस की गोली लगने और पिछले साल नोएडा में हुए एक हत्याकांड की सीबीआई से जांच कराने के आदेश के औचित्य पर सवाल उठाते हुए उस पर पुनर्विचार का आग्रह किया गया था। 

योगी ने कहा कि देवेन्द्र प्रताप सिंह ने जो सवाल उठाये हैं, पीठ से अनुरोध है कि उन पर विचार करे। इस पर समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने आपत्ति करते हुए कहा कि अगर पीठ के आदेशों पर ही सवाल उठाये जाएंगे तो हम कहां जाएंगे। जब नेता विपक्ष अहमद हसन इस पर कुछ कहने के लिये उठे, तो ग्राम्य विकास मंत्री महेन्द्र सिंह ने यह कहते हुए आपत्ति जताई कि नियम 39 में चर्चा का प्रावधान नहीं है।