उत्तराखंड के सीएम रावत ने मोदी सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, जंतर-मंतर पर करेंगे भूख हड़ताल


नई दिल्ली (3 जनवरी): केंद्र सरकार से केंद्रीय योजनाओं का पैसा और ग्रीन बोनस नहीं मिलने के विरोध में उत्तराखंड के मुख्मंत्री हरीश रावत गुरुवार को जंतर-मंतर पर एक दिन की भूख हड़ताल करेंगे। रावत के साथ उनके सभी मंत्रियों से लेकर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय और संगठन के सभी पदाधिकारी भी धरने में शामिल होंगे।


मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि केंद्र के उपेक्षापूर्ण रवैये के कारण उनको भूख हड़ताल के लिए मजबूर होना पड़ा है। केंद्र सरकार केंद्रीय परियोजनाओं से लेकर ग्रीन बोनस के तहत प्रदेश सरकार का हजारों करोड़ रुपये नहीं दे रही है जबकि वे लगातार इसकी मांग करते रहे हैं। रावत ने कहा कि हाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब उत्तराखंड के दौरे पर आए थे तब भी उनको मांग पत्र दिया गया। इससे पहले प्रधानमंत्री के साथ ही वित्तमंत्री अरुण जेटली और संबंधित मंत्रियों के सामने भी कई बार यह मुद्दा रखा गया। 


मुख्यमंत्री ने कहा कि कई बार प्रयास करने के बाद भी उनको निराशा ही मिली। इससे प्रदेश भारी  वित्तीय संकट में है। रही सही कसर नोट बंधी ने पूरी कर दी है। इससे प्रदेश की कई योजनाएं अधर में लटकी हैं। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड जैसे छोटे पर केंद्र की वित्तीय समर्थन के बिना विकास नहीं कर पाएंगे।

इस भूख हड़ताल में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर साथ ही  राज्य मंत्रिमंडल, विधानसभाओं और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और कार्यकर्ताओं के सदस्य भी शामिल होंगे। भूख हड़ताल गुरुवार को सुबह 10 बजे जंतर-मंतर पर यहां शुरू होगी।