VIDEO: संघ के एजेंडे पर काम कर रही है केंद्र सरकार- मुकुल संगमा

रमन झा, दिल्ली (30 मई): मेघालय के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा बूचड़खानों में जानवरों को मारने के लिए बिक्री पर रोक के केंद्र सरकार के फैसले की आलोचना की है। मुकुल संगमा ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार क्रूरता रोकथाम अधिनियम (Prevention of Cruelty Act) 1962 का दुरुपयोग कर रही है। उन्होंने कहा कि ये देश की संस्कृति और भविष्य के लिए खतरनाक है। लिहाजा सरकार को इसपर फिर से विचार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसके पीछे सरकार की योजना गोहत्या पर पूरी तरह से पाबंदी लगाने की है। साथ ही उन्होंने कहा कि बीजेपी पर संघ के एजेंडे पर काम करने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि ये देश किसानों का है और इस तरह की पाबंदी से उनके आर्थिक हालात पर गहरा असर डालेगा। सीएम संगमा ने कहा कि नॉर्थ इस्ट के बीजेपी के नेताओं को पता नहीं है कि उनकी पार्टी दरवाजे के पीछे क्या योजना बना रहे हैं।

केरल में युवा कांग्रेस के नेताओं द्वारा सरेआम गोहत्या और बीफ पार्टी पर मुकुल संगमा ने कहा कि लोगों का विरोध करने का अपना-अपना तरीका होता है। छोटे-छोटे समुदाय और ग्रुप ने देश की आजादी की लड़ाई में हिस्सा लिया है। लेकिन ये सरकार 'बांटो और राज करे' की नीति पर चल रही है। साथ ही उन्होंने सवाल किया कि क्या यही ये पीएम मोदी का 'सबका साथ, सबका विकास' है।

मेघालय के मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार को इस फैसले को वापस लेना चाहिए और इसे वापस लेने के लिए संबंधित फोरम पर पूरे मामले को उठाया जाएगा। मुकुल संगमा ने कहा कि किसानों को लगता है कि जो मवेशी उनके इस्तेमाल के लायक नहीं है तब वो उसे बेच देते हैं, ऐसे में सरकार के इस फैसले से किसानों को काफी नुकसान होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि इस मसले पर किसी को राजनीति नहीं करनी जाहिए, क्योंकि ये किसानों के हितों से जुड़ा और उनका आर्थिक मामला है।