'अश्वेत मर्दों के लिए गैंगरेप अच्छा टाइम पास'- ऐसा कहने वाली जज की जमकर आलोचना

नई दिल्ली (11 मई): दक्षिण अफ्रीका की एक जज ने कुछ ऐसा कह दिया है, जिसके बाद से उसकी जमकर आलोचना की जा रही है। इस जज ने अश्वेत पुरुषों को लेकर बेहद आपत्तिजनक बात कही। जज ने कहा, कि "अश्वेत पुरुष एक बच्ची, बेटी या मां के साथ गैंग-रेप करने में आनंद महसूस करते हैं और यह उनके लिए अच्छा टाइम पास होता है।"

ब्रिटिश अखबार 'द इंडिपेंडेंट' की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रिटोरिया के हाईकोर्ट की जज मैबल जैनसन एक सामाजिक कार्यकर्ता गिलियन श्यूट के साथ फेसबुक पर बातचीत कर रही थीं। वे अश्वेत पुरुषों की तरफ से महिलाओं के साथ होने वाले व्यवहार पर बात कर रही थीं।

सामाजिक कार्यकर्ता श्यूट ने 2015 को हुई इस बातचीत को अब प्रकाशित किया है। जिसके बाद देश में काफी नाराजगी फैल गई है। फेसबुक पोस्ट के मुताबिक, जज ने कथित तौर पर कहा था, "उनकी संस्कृति में महिला की जगह उन्हें आनंद देने के लिए है।" इसके आगे वह कहती है, "हत्या तो कोई बड़ी बात ही नहीं है। बच्चे, बेटी और मां का गैंगरेप तो आनंद के लिए टाइमपास है।"

हालांकि, जज ने दावा किया है कि इन टिप्पणियों को बिल्कुल ही अलग मतलब में लिया गया। ट्विटर पर कहा, "मैने जो कुछ भी गोपनीय ढ़ंग से मदद के लिए कहा उसे पूरी तरह से अलग मतलब में लिया गया। मैंने कोर्ट के कुछ खास मामलों का जिक्र किया था।"

श्यूट ने इसका विरोध किया है। उन्होंने कहा कि कमेंट्स फेसबुक पर एक पब्लिक डिबेट के थे। विपक्षी डेमोक्रेटिक अलायंस पार्टी ने इन टिप्पणियों के बारे में कहा है, "ये केवल परेशान करने वाले ही नहीं हैं बल्कि लोगों की प्रतिष्ठा के लिए खराब है।" 

उन्होंने घोषणा की है कि इसके बारे में ज्यूडिशियल सर्विसेस कमिशन को रिपोर्ट किया जाएगा। जिससे इसकी जांच की जा सके, अगर उन्होंने अपनी न्यायिक शपथ का उल्लंघन किया है।