VIDEO: जाधव मामले में ICJ में सुनवाई जारी, साल्वे खोल रहे हैं पाक की पोल

हेग (15 मई): हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस यानी ICJ में कुलभूषण जाधव को लेकर सुनवाई जारी है। जाधव, जो कि भारतीय नागरिक हैं, को पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने जासूसी के आरोप में फांसी की सजा सुनाई है। भारत ने इस फैसले को नियमों के विरुद्ध बताकर ICJ में याचिका दी थी। भारत की ओर से वरिष्ठ हरीश साल्वे ने जोरदार तरीके से भारत का पक्ष रखा।


हरीश साल्वे ने कहा कि पाकिस्तान ने विएना समझौते का उल्लंघन किया है। कुलभूषण जाधव को राजनयिक मुलाकात का मौका दिए बिना गिरफ्तार कर रखा गया और अब उन पर फांसी की तलवार लटक रही है।


ICJ के सामने साल्वे की दलील...


- भारत चाहता है कि कुलभूषण जाधव को लेकर पाकिस्तान की सैन्य अदालत के फैसले को अमान्य करार दिया जाए

- पाकिस्तान ICJ के फैसले को चुनौती नहीं दे सकता है

- भारत ने ICJ को बताया कि उसे डर है कि इस सुनवाई के पूरा होने से पहले ही कुलभूषण जाधव को फांसी पर चढ़ा दिया जाएगा

- पाकिस्तान ने राजनयिक मदद न देने की भी कोई वजह नहीं बताई

- जाधव को सिर्फ बयान के आधार पर आरोपी बताया गया है। यह बयान जाधव से उस वक्त जबरन लिया गया था जब वह सेना की हिरासत में थे

- पाकिस्तान ने कूटनीतिक नियमों का पालन नहीं किया है

- पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव के खिलाफ तैयार की गई चार्जशीट भारत को नहीं दी

- कुलभूषण जाधव को अपना पक्ष रखने के लिए नहीं दिया गया वकील

- पाकिस्तान ने जाधव के अधिकारों का हनन किया, भारत को जानकारी नहीं कि जाधव को पाकिस्तान में कहां रखा गया है

- प्रेस विज्ञप्ति के जरिए जाधव की सजा के बारे में जानकारी दी गई

-  भारत को डर है कि इस सुनवाई के पूरा होने से पहले ही कुलभूषण जाधव को फांसी पर चढ़ा दिया जाएगा

- भारत चाहता है कि कुलभूषण जाधव को लेकर पाकिस्तान की सैन्य अदालत के फैसले को अमान्य करार दिया जाए

- जाधव को ईरान से अगवा किया गया और जबरदस्ती बयान लिया गया

- जाधव के परिवारवालों की तरफ से वीजा आवेदन अभी भी लंबित है

- पाकिस्तान की तरफ से जाधव के ट्रायल को लेकर कोई दस्तावेज भारत को नहीं दिया गया

- मौजूदा स्थिति बेहद गंभीर है और इसीलिए भारत ने ICJ के हस्तक्षेप की मांग की है

- जाधव की गिरफ्तारी के बाद भारत को कोई जानकारी नहीं दी गई

- पाकिस्तान ने वियना संधि का उल्लंघन किया, भारत की मांगें नहीं मानी