बीजिंग ने पाक को बताई औकात, पाकिस्तानियों को आसानी से नहीं मिलेगा चीन का वीजा

नई दिल्ली (3 सितंबर): एक तरफ चीन पाकिस्तान को अपना ऑल वेदर फ्रेंड कहता है और दूसरी तरफ पाकिस्तानियों के आने पर पाबंदियां भी लगाता है। कहने का मतलब यह कि 51.5 बिलियन डॉलर निवेश करने वाला चीन, अपने कथित दोस्त को उसकी औकात पर रखना चाहता है। पाकिस्तान की बिजनेस कम्युनिटी द्वारा बार-बार शिकायत किये जाने के बावजूद बीजिंग ने अभी तक पाकिस्तानियों को मल्टीपल एंट्री वीजा लागू नहीं किया है। इतना ही नहीं जब से सीपेक शुरु हुआ है तब से तो पाकिस्तानियों का चीन जाना और भी कठिन हो गया है। बीजिंग के निर्देशों को मुताबिक किसी भी पाकिस्तानी को अधिकतम तीन महीने का ही बिजनेस वीजा दिया जा सकता है। वो भी तब जब चीन का कोई बिजनेस हाउस उन्हें अपने यहां बुलाने की चिट्ठी भेजे तब। दरअसल, चीन पाकिस्तान की आतंकपरस्त नीति को जानता है और उससे होने वाले नुकसानों भी उसे अंदाज है। इसलिए चीन ने पाकिस्तानियों के वीजा पर इतनी पाबंदियां लगा रखी हैं।