चीन की इस मिसाइल से डरता है हरकोई...

नई दिल्‍ली (28 जनवरी): बात जब मिसाइल की हो तो फिर ड्रेगन की ताकत को कोई भी नजरअंदाज नहीं कर सकता। इस कड़ी में डोंगफेंग चीन की बैलेस्टिक मिसाइल में सबसे अहम है। क्योंकि इसकी मारक क्षमता किसी भी मिसाइल से कम नहीं है। चीन की डोंगफेंग से हरकोई डरता है।

'डोंगफेंग' दुश्मन के लिए दहशत का दूसरा नाम। सुपर पावर चीन की मिसाइल की ये सबसे बड़ी ताकत है, जिसकी मारक क्षमता अमेरिका और यूरोप के ज्यादातर शहरों तक है। चीन ने इस मिसाइल का परीक्षण पिछले साल एक अक्टूबर को होने वाले 'नेशनल डे' से पहले किया था, जिसका मकसद शक्ति पर्दशन करना था। 'डोंगफेंग' चीन की बैलेस्टिक मिसाइल में सबसे अहम है और दुनिया की सबसे सक्षम मिसाइलों में भी शामिल है। ये परमाणु हथियारों को ढोने में तो सक्षम है ही, साथ ही किसी भी जगह से इसे छोड़ा जा सकता है। इसी खूबी के चलते मिसाइल की ताकत की दुनिया में चीन की अलग पहचान है।

इसकी एक खूबी ये भी है कि इसे सड़क पर खड़े किसी ट्रक लांचर से भी दागा जा सकता है। ये दुनिया में सबसे लंबी दूरी तक मार करने वाली मिसाइलों की लिस्ट में शामिल हैं। 'डोंगफेंग' 13,000 किलोमीटर तक वार करने में सक्षम है और 3,200 किलोग्राम तक विस्फोट ले जा सकती है। यह एक साथ कई लक्ष्यों को भेदने में व मैक-25 की गति से हमला करने में सक्षम है।

डोंगफेंग का परीक्षण वुझाय मिसाइल एवं अंतरिक्ष परीक्षण केंद्र से किया गया था। जानकार मानते हैं कि इस परीक्षण का मकसद दुनिया को ये समझाना है कि चीन परमाणु प्रतिरोधक तैनात कर रहा है। चीन के पास पनडुब्बी से छोड़ी जा सकने वाली जेएल-2 मिसाइल भी है, जो 8,000 किलोमीटर तक वार कर सकती है और और तो और ये मिसाइल कई निशानों पर एक साथ हमला कर सकती है।