पहाड़ हों या जंगल दुश्मन की खैर नहींं-ब्राह्मोस को देख थर-थर कांप रहा है चीन

नई दिल्ली (20 जुलाई): देश के नॉर्थ-ईस्ट में ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल तैनात किए जाने के ऐलान के साथ ही 'ड्रैगन' का थर्राने लगा है। ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल से युन्नान प्रांतों के लिए गंभीर खतरा पैदा कर दिया है।  अरुणाचल प्रदेश से चीन के 290 किलोमीटर के दायरे में आने वाली हर जगह इसकी पहुंच में होगी। यहां उन्‍नत ब्रह्मोस की तैनाती होगी जो पहाड़ों में छुपे दुश्मन के ठिकानों को भी निशाना बना सकता है।

भारत के अंतरमहाद्वीप मिसाइल ब्रह्मोस से चीन पहले ही अपनी चिंता जाहिर की है। ब्रह्मोस की स्पीड 3,675 किमी प्रति घंटा है। ब्रह्मोस को लेकर चीन की घबराहट की सबसे बड़ी वजह इसका न्यूक्लियर वॉर हेड तकनीक से लैस होना है। यह 290 किलोमीटर दूरी तक के लक्ष्य को भेद सकती है। गौरतलब है कि सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल की मारक क्षमता मौजूदा 290 किलोमीटर से बढ़ाकर 450 किलोमीटर तक की जाएगी।