उत्तराखंड में कैसे घुसा था चीन? बड़ा खुलासा

नई दिल्ली (31 जुलाई): उत्तराखंड के बाराहोती इलाके में घुसपैठ से पहले चीनी सेना ने एक हाईक्लास एयरक्राफ्ट के जरिए जासूसी मिशन किया था। जिसमें सिंथेटिक अपर्चर राडार (एसएआर) लगा हुआ था। जो बड़े इलाकों की हाई रिज़ॉल्यूशन में तस्वीरें उपलब्ध कराता है।

- रिपोर्ट के मुताबिक, आधिकारिक सूत्रों ने इसकी जानकारी दी है। - उन्होंने बताया कि चाइनीज़ पीपुल्स आर्मी के  'TupolovTu 153M' एयरक्राफ्ट ने इस साल 2-3 सामरिक यात्राएं की थीं।  - ये दौरे उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के इलाकों में पड़ने वाले मिडिल सेक्टर में किए गए। - एयरक्राफ्ट ने 40,000 फीट की ऊंचाई पर उड़कर ये सर्विलांस किया था। जो राडार से बचने के लिए 60,000 फीट की  ऊंचाई पर भी जा सकता था।  - इस ऊंचाई पर भी यह एयरक्राफ्ट तस्वीरें खींच सकता है। और साइबर और कम्यूनिकेशन्स सिग्नेचर्स को कैप्चर कर सकता है।