बौद्ध सम्मेलन में दलाई लामा को बुलाने पर चीन की भारत को चेतावनी

नई दिल्ली ( 20 मार्च ): बौद्ध गुरु दलाई लामा के मुद्दे पर चीन ने एक बार फिर से भारत के रुख के प्रति नाराजगी जताई है। बिहार में आयोजित हुए अंतरराष्ट्रीय बौद्ध सम्मेलन के लिए तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा को न्योता भेजे जाने पर चीन ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए उसने कहा कि भारत उसकी चिंता के विषयों को तवज्जो दें अन्यथा दोनों देशों के संबंध प्रभावित हो सकते हैं।


चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनीइंग ने भारत को चेतावनी देते हुए सोमवार को कहा कि कहा, हाल के दिनों में भारत ने कई मुद्दों पर चीन की मान्यताओं और आपत्तियों को सम्मान नहीं किया है। इस तरह के मामलों में भारत सरकार द्वारा आयोजित होने वाले बौद्ध सम्मेलन में दलाई लामा का आमंत्रण भी शामिल है।


चीन भारत के इस कदम को सख्ती से अस्वीकार करता है और उसका विरोध करता है। प्रवक्ता ने कहा, हमारा अनुरोध है कि भारत दलाई लामा और उनके साथियों के अलगाववादी व्यवहार को पहचाने और तिब्बत व उससे जुड़े विषयों का सम्मान करे। भारत द्विपक्षीय संबंधों के हित में चीन को चिंतित करने वाले मामलों को न उभारे। उल्लेखनीय है कि बिहार के राजगीर में आयोजित अंतरराष्ट्रीय बौद्ध सेमिनार का उद्घाटन 17 मार्च को दलाई लामा ने किया था। इसमें कई देशों के बौद्ध भिक्षु और विद्वान भाग ले रहे हैं।


इससे पहले चीन ने दलाई लामा के अरुणाचल प्रदेश जाने पर आपत्ति जताई थी। अरुणाचल को दोनों देशों के बीच का विवादित स्थल बताते हुए वहां पर दलाई लामा को आमंत्रित किये जाने को गलत बताया था।