चाइनीज सामान के बहिष्कार से चिढ़ा चीन, दी गीदड़ भभकी

नई दिल्ली (27 अक्टूबर): भारत में एक तबके की ओर से चाइनीज सामानों के बहिष्कार की अपील के बीच 'ड्रैगन' ने द्विपक्षीय रिश्तों और व्यापार को लेकर चेताया है। चीन ने कहा कि ऐसा कोई भी प्रयास भारत में निवेश और दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सहयोग पर नकारात्मक प्रभाव डालेगा। चीन के मुताबिक, 'ऐसे किसी बहिष्कार का चीन के निर्यात पर ज्यादा असर नहीं होगा, लेकिन विकल्पहीनता की वजह से भारतीय व्यापारियों और उपभोक्ताओं को ही अधिक नुकसान होगा।'

भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ा तो चीन पाकिस्तान का बचाव करता दिखा। वह आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मौलाना मसूद अजहर के लिए भी ढाल बन रहा है। इसको देखते हुए देश में चीन के खिलाफ भी माहौल बना। सोशल मीडिया पर चीनी सामानों के बहिष्कार की अपील की है। व्यापारियों के सबसे बड़े संगठन सीएआईटी ने भी हाल ही में कहा था कि इस दिवाली पर चीनी सामानों की बिक्री 30 फीसदी तक कम हो सकती है। भारत चीनी सामानों का बड़ा बाजार है। पिछले कुछ सालों में खिलौने, फर्नीचर, बिल्डिंग हार्डवेयर, पटाखों, लाइट्स, इलेक्ट्रॉनिक सामानों, खड़ियों और गिफ्ट आइटम्स की बिक्री बहुत बढ़ गई है। सीएआईटी के मुताबिक, चीनी सामान आमतौर पर काफी सस्ते होते हैं। यह वजह है कि भारतीय बाजार में इसकी पैंठ बढ़ रही है।