"विरोधी" चीन इस मुद्दे पर मांग रहा है भारत से मदद...

बीजिंग (6 अगस्त): दक्षिणी चीन सागर मुद्दे पर फंसा चीन अब भारत से रहम की आस लगाए हुए है, इसीलिए उसके विदेश मंत्री वांग 12 अगस्त को 3-दिवसीय दौरे पर भारत आ रहे हैं। चीन चाहता है कि भारत सितंबर में होने वाले G-20 सम्मेलन में दक्षिणी चीन सागर मुद्दा उठाने वाले देशों का साथ ना दें।

हाल ही में दक्षिणी चीन सागर विवाद पर अंतरराष्ट्रीय कोर्ट का फैसला अपने विरोध में आने के बाद से ही चीन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर घिर गया है। उसे इस बात की काफी चिंता है कि G-20 सम्मेलन में अमेरिका सहित कई देश इस हिस्से पर उसके दांवे को लेकर सवाल उठाएंगे। दक्षिणी चीन सागर क्षेत्र के ज्यादातर हिस्से पर पेइचिंग के दावे को फिलीपीन्स ने चुनौती दी थी। इसके बाद संयुक्त राष्ट्र के समुद्रीय कानूनों के तहत इस मामले की सुनवाई के लिए एक ट्राइब्यूनल का गठन किया गया।

भारत इस मामले पर संयमित प्रतिक्रिया दे रहा है। भारत ने कहा है कि UN के फैसले को प्रभावी तरीके से लागू किया जाना चाहिए और सभी संबंधित पक्षों को इस मामले में सहयोग देना चाहिए। चीन भारत की इस प्रतिक्रिया से खुश नहीं है। चीन नहीं चाहता कि G-20 सम्मेलन में यह मुद्दा उठे। इसके लिए चीन कोशिश कर रहा है कि भारत इस मसले पर चर्चा कराए जाने की मांग कर रहे देशों के साथ शामिल ना हो। हाल ही में ASEAN देशों के एक सम्मेलन में चीन ने यह मसला नहीं उठाने को लेकर सदस्य देशों को राजी कर लिया था।

3 सितंबर को चीन में आयोजित होने जा रहे G20 सम्मेलन के दौरान PM मोदी के अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा और चीनी राष्ट्रपति चिनफिंग से मुलाकात करने की उम्मीद है। इस सम्मेलन से पहले वांग 3 देशों के दौरे पर जा रहे हैं। वह भारत के अलावा केन्या और उगांडा भी जाएंगे। वांग अपने भारत दौरे पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से भी मुलाकात करेंगे। पिछले कुछ समय से भारत और चीन के रिश्तों में काफी तनाव आया है। न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) में शामिल होने के भारतीय दावे का भी चीन ने विरोध किया था। इसके बाद हाल ही में उत्तराखंड और लद्दाख के सीमावर्ती इलाकों में चीनी फौज द्वारा घुसपैठ की भी खबरें आई थीं।