चीन ने बनाया पहला 'रोबोट सिक्योरिटी गार्ड', दंगा रोकने के लिए चलाता है हथियार

नई दिल्ली (27 अप्रैल): चीन ने सुरक्षा उपकरणों के विकास में एक नई कड़ी जोड़ी है। चीन ने एक ऐसा पहला रोबोट सिक्योरिटी गार्ड बनाया है। जिसमें हथियार लगाए गए हैं। रोबोट की खासियत है कि यह इंटेलीजेंट वीडियो एनालिसिस के जरिए हथियारों का इस्तेमाल कर सकता है। 

'न्यूजवीक' की रिपोर्ट के मुताबिक, एनबोट चीन का पहला इंटेलीजेंट सिक्योरिटी रोबोट है। चीन के सरकारी न्यूजपेपर पीपुल्स डेली के मुताबिक, इसे नेशनल डीफेंस यूनिवर्सिटी ने डेवलेप किया है। 1.49 मीटर और 76 किलोग्राम की इस मशीन की स्पीड 18 किलोमीटर प्रति घंटा है। इसमें ऐसे सेंसर्स लगाए गए हैं, जो मानव मस्तिष्क, आंखों और कानों की तरह काम कर सकते है।

इस खास रोबोट को चॉन्गक्विंग हाई-टेक फेयर में पिछले सप्ताह प्रदर्शित किया गया। इसका इस्तेमाल पैट्रोलिंग के लिए उन स्थानों पर किया जा सकता है जहां अशांति और हिंसा का माहौल है। नेशनल डिफेंस एकेडमी के मुताबिक, एनबोट में उच्च स्तर की स्वायत्ता है। यह पैट्रोलिंग कर सकता है। बाधाओं को पार कर सकता है। इसके अलावा पहचान करने और खुद को चार्ज करने में भी सक्षम है।

इसमें हिंसा रोकने के लिए रिमोट कंट्रोल के जरिए इस्तेमाल योग्य हथियारों को लगाया गया है। कुल मिलाकर यह एक सर्विस प्रोवाइडर है। जो इसे और भी प्रैक्टिकल करता है। इस रोबोट को दंगा नियंत्रक उपकरण के तौर पर खास माना जा रहा है। इसमें एक SOS बटन भी लगाया गया है। जिसका इस्तेमाल लोग पुलिस को सूचित करने के लिए भी कर सकते हैं।