पाकिस्तान के दोस्त चीन की मुस्लमानों पर जुल्म की इंतेहा

बीजिंग (13 अक्टूबर): पाकिस्तान जिस चीन को अपना सबसे बड़ा दोस्त मानता है, उसी ने अपने देश में मुस्लमानों पर जुल्म की इंतेहा को पार कर दिया है। मुसलमानों की बड़ी आबादी वाले चीन के शिनचियांग प्रांत में सरकार ने नए शिक्षा नियम लागू किए हैं, जिने मुताबिक माता-पिता बच्चों से नमाज पढ़ने या किसी धार्मिक गतिविधि में शामिल होने के लिए नहीं कह सकते।

चीन में आधिकारिक तौर पर किसी भी धर्म को मानने की आजादी है, लेकिन नाबालिगों को किसी भी धार्मिक गतिविधि में शामिल होने की अनुमति नहीं है। हाल के सालों में चीनी अधिकारियों ने भूमिगत चलने वाले कई मुस्लिम मदरसों पर कार्रवाई की है। एक नवंबर से लागू होने वाले नए शिक्षा नियमों में कहा गया है कि माता-पिता बच्चों को कोई लालच देकर या फिर जोरजबरदस्ती से किसी धार्मिक गतिविधि में हिस्सा लेने को मजबूर नहीं कर सकते।

शिनचियांग डेली अखबार में छपे इन नियमों के मुताबिक माता-पिता या उनके अभिभावक बच्चों में न तो किसी तरह के चरमपंथी विश्वासों को बढ़ावा दे सकते हैं और न ही उन्हें खास कपड़े पहनने या प्रतीकों को धारण करने के लिए कह सकते हैं। साथ ही अखबार ने दाढ़ी रखने और महिलाओं के लिए सिर ढकने पर पाबंदी वाले पुराने नियमों का भी जिक्र किया है।