उत्तर कोरिया पर चीन ने डोनाल्ड ट्रंप को दिया ये बड़ा धोखा

नई दिल्ली ( 16 नवंबर ): डोनाल्ड ट्रंप अभी हाल ही में चीन दौरे पर गए थे, लेकिन चीन ने ट्रंप के दौरे के कुछ दिनों बाद ही उत्तर कोरिया के मुद्दे पर अमेरिका को बड़ा झटका दे दिया है। चीन ने गुरुवार को उस दावे को खारिज कर दिया है जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि नॉर्थ कोरिया के परमाणु संकट से निपटने के लिए बीजिंग ने अपना प्रस्ताव छोड़ दिया है। जबकि एक दिन पहले ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने कहा था कि पेइचिंग अपनी पॉलिसी को छोड़ने पर राजी हो गया है। 

बता दें कि चीन काफी समय से 'ड्यूल ट्रैक अप्रोच' की बात करता रहा है। वह चाहता है कि इस संकट को सुलझाने के लिए पहले अमेरिका क्षेत्र में सैन्य अभ्यास बंद करे तो उत्तर कोरिया अपने हथियार कार्यक्रम को फ्रीज करेगा। 

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को कहा था कि चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अपना प्लान बदल दिया है। ट्रंप ने कहा, 'राष्ट्रपति शी मानते हैं कि परमाणु संपन्न उत्तर कोरिया से चीन को बड़ा खतरा है। हम इस बात पर सहमत हैं कि फ्रीज या फ्रीज समझौते जैसा कुछ नहीं करेंगे क्योंकि यह पहले विफल साबित हुआ है। हमने माना है कि समय निकलता जा रहा है और हमारे सामने सभी विकल्प खुले हैं।' 

लेकिन चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा कि पेइचिंग का इस परमाणु मसले पर रुख लगातार स्थिर और स्पष्ट है। उन्होंने कहा कि सेना का इस्तेमाल इस संकट को सुलझाने का विकल्प नहीं है। प्रवक्ता ने कहा, 'हमारा मानना है कि मौजूदा परिस्थितियों में संदेहास्पद गतिविधियों को बंद करना ही सबसे वास्तविक, व्यावहारिक और सही प्लान होगा।' इस बीच शी अपने एक विशेष दूत को नॉर्थ कोरिया भेज रहे हैं। माना जा रहा है कि इस दौरान परमाणु मसले पर चर्चा हो सकती है।