आतंकवाद पर यूएन में चीन पाक के साथ, भारत को दिया धोखा

नई दिल्ली (1 अप्रैल): चीन ने एक बार फिर आतंकवाद फिर पैंतरा बदलते हुए पाकिस्तान का साथ दिया है और जैश-मुहम्मद सरगना मसूद अज़हर को अंतरर्राष्ट्रीय आंतकी घोषित करने के भारत के प्रयास के खिलाफ यूनाईटेड नेशंस में वीटो लगा दिया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने वीटो के प्रयोग उस ऐन मौके पर किया है जब यूएन मसूद अज़हर को आतंकी घोषित करने ही जा रहा था।

पठानकोट एयरफोर्स पर आतंकी हमला होने के बाद भारत ने यूएने में अज़हर के खिलाफ कार्रवाई के लिए अलकायदा कमेटी के समक्ष अपनी लिखित शिकायत दी थी। इस कमेटी में शामिल 15 में से 14 देश इसके भारत के पक्ष में थे। भारत के पक्ष में अमेरिका, यूके और फ्रांस जैसे देश थे। सिर्फ चीन ने इसका विरोध किया। हैरानी की बात ये है कि चीन ने इसकी वजह भी नहीं बताई।

माना जा रहा है कि चीन ने पाकिस्तान से दोस्ती और भारत के साथ शत्रुता जैसा व्यवहार किया है। भारत सरकार के मुताबिक, मसूद पर कार्रवाई से ठीक पहले चीन ने पाकिस्तान से बात की थी। पाकिस्तान इस कमेटी का मेंबर नहीं है। यूएन में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैय्यद अकबरुद्दीन ने कहा, इस मसले को हम ऐसे छोड़ने वाले नहीं हैं। उन्होंने कहा, मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि हम मसूद को बैन करवाने की पूरी कोशिश करेंगे।