चीन ने पाकिस्तान को दिखाया ठेंगा, नवाज से नहीं मिले जिनपिंग

बीजिंग (10 जून): पाकिस्तान की हर शैतानी हरकतों में साथ देने वाला चीन भी अब धीरे-धीरे उसका असलियत समझने लगा है। अस्ताना में आयोजित संघाई सहयोग संगठन की बैठक में जहां चीन के राष्ट्रपति जिनपिंग ने पीएम मोदी, ताजिकिस्तान और तुर्कमेनिस्तान के नेताओं के अलावा स्पेन के किंग से अलग से मुलाकात की और कई मुद्दों पर बातचीत की। वहीं जिनपिंग ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से मुलाकात तक नहीं की।

बताया जा रहा है कि चीन और पाकिस्तान के रिश्तों में यह नया मोड़ तब आया है जब मई के आखिर में बलूचिस्तान में अपहृत दो चीनी नागरिकों की हत्या कर दी गई। इसको लेकर चीन में काफी आक्रोश है। शुक्रवार को चीन की ओर कहा गया कि यह बहुत ही चिंताजनक है कि आतंकी संगठन ISIS ने दो युवा चीनी नागरिकों के अपहरण और हत्या का दावा किया है। दोनों युवा चीनी नागरिक पाकिस्तान के क्वेटा शहर में लैंग्वेज टीचर के रूप में काम कर रहे थे। चीनी मीडिया ने इस खबर को प्रमुखता से छापा और इससे जुड़ी चिंताओं को रेखांकित किया, जबकि चीनी सरकार पाकिस्तान में बड़े पैमाने पर निवेश की योजनाओं को लेकर आगे बढ़ रही है।

शुक्रवार को ही चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा कि इस मामले को लेकर वो बेहद चिंतित हैं। हुआ ने कहा कि चीन हमेशा से अपने नागरिकों को इस बात की सलाह देता रहा है कि बहुत खतरनाक इलाकों में न जाएं लेकिन बलूचिस्तान को लेकर इससे पहले कोई वॉर्निंग नहीं जारी की गई थी। उन्होंने कहा कि इस घटना का बेल्ट और रोड इनिशिएटिव से कोई कनेक्शन नहीं है और ना ही एससीओ समिट से, चीनी प्रवक्ता ने यह भी कहा कि पाकिस्तान चीनी नागरिकों की सुरक्षा के लिए समुचित कदम उठा रहा है और संबंधित संस्थाएं इस संदर्भ में बेहतर काम कर रही हैं।