चीन ने फिर हांगकांग में लोकतंत्र का गला घोंटा

नई दिल्ली (5 अगस्त): दो सो से ज्यादा छोटे-छोटे द्वीपों का समूह हांगकांग लगातार अपनी राजनीतिक स्वतंत्रता और लोकतांत्रिक अधिकार खोता जा रहा है। हांगकांग में 4 सितंबर को विधानसभा चुनाव हैं, इस बीच चीन ने विभिन्न पार्टियों के उम्मीदवारों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है।

चीन के कम्युनिस्ट नियंत्रण से आजादी को लेकर 2014 में 'अम्ब्रेला मूवमेंट' में हिस्सा लेने वाले 5 युवाओं को बीजिंग ने उम्मीदवारी के लिए अयोग्य करार दिया है। इससे राजनीतिक दलों में आक्रोश है। 19997 से पहले तक हांगकांग ब्रिटेन का प्रशासकीय क्षेत्र था। हांगकांग के लोग अपनी चुनी हुई सरकार चाहते हैं। लेकिन की साम्राज्य विस्तार नीति की पोषक चीन सरकार हांगकांग के लोगों पर लगातार दमन चक्र चला रही है।