भारत के प्रति ट्रंप के रुख से चीन-पाक की उडी़ हवाईयां

नई दिल्ली (2 अप्रैल): अमेरिकी सांसदों और राष्ट्रपति ट्रंप के भारत के प्रति रुख से चीन और पाकिस्तान की हवाईयां उड़ी हुई हैं। चीन हर संभव कोशिश कर रहा है कि ट्रंप की भारत नीति में परिवर्तन आये ताकि वो अपने दोस्त पाकिस्तान को मदद कर सके। जबकि अमेरिका की रिपब्लिकन पार्टी के सांसद कहते हैं कि अमेरिका में राष्ट्रपति चाहे जो भी हो, अमेरिकी कांग्रेस भारत और अमेरिका के बीच संबंध प्रगाढ़ करने के लिए प्रयास करती रहेगी और दोनों देशों के संबंध प्रगाढ़ करने के लिए 'असीम गुंजाइश' हैं।


 एक खास बात और यह कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग छह और सात अप्रैल को अमेरिका में रहेंगे और राष्ट्रपति ट्रंप के साथ मार-ए-लागो में मुलाकात करेंगे। किंतु अभी तक अमेरिकी राष्ट्रपति ने चीन जाने के बारे में कोई सहमति नहीं दी है। वरिष्ठ अमेरिकी सांसद जॉर्ज होल्डिंग ने कहा, 'अमेरिका भारत संबंध को वाशिंगटन में हमेशा दोनों दलों समर्थन मिला है। अमेरिकी सांसद जॉर्ज होल्डिग ने कहा उन्होंने कहा कि उनका मानना है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बीच अनेक बार फोन पर बातचीत हो चुकी है और दोनों पक्षों ने दोनों देशों के बीच संबंध को और गहरा करने की प्रतिबद्धता जताई है।


 अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक दूसरे को अपने अपने देशों की यात्रा के लिए आमंत्रित किया है। दोनों नेताओं ने इन आमंत्रणों को स्वीकार कर लिया है और दोनों ओर के अधिकारी यात्रा के लिए सुविधाजनक तारीखों पर विचार कर रहे हैं। पिछले साल भारत को रक्षा के क्षेत्र में अमेरिका का प्रमुख साझेदार बनाने में होल्डिंग की अहम भूमिका रही है।