रिजिजू ने चीन की हवा निकाली, सुनाई खरी-खरी

नई दिल्ली (2 अप्रैल): तिब्बतियों के आध्यात्मिक गुरु दलाई लामा के अरुणाचल दौरे को लेकर चीन की चेतावनी पर केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने कहा है कि चीन को भारत के आंतरिक मामलों में दखलअंदाज़ी नहीं करनी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि भारत भी चीन के आंतरिक मामलों में दखलअंदाज़ी नहीं करता है। रिजिजू ने कहा कि यह दौरा लोगों की इच्छानुसार हो रहा है। 


अरुणाचल दौरे से पहले दलाई लामा आसाम पहुंचे। यहां उनका पारंपरिक तौर पर स्वागत किया गया। उन्होंने कहा कि आतंक के नाम पर किसी एक पूरे समुदाय विशेष को दोषी ठहराना उचित नहीं है। दलाई लामा असम में आज नमामी ब्रह्मपुत्र महोत्सव में शामिल होंगे। इसके बाद वो गुवाहाटी यूनिवर्सिटी में छात्रों को संबोधित करेंगे। सोमवार को दलाई लामा डिब्रूगढ़ यूनिवर्सिटी में आयोजित कार्यक्रम के दौरान लोगों को संबोधित करेंगे। इसके बाद वह तवांग के निकट लुम्‍ला चले जाएंगे। दलाई लामा तवांब में रुकेंगे जो कि मैकमोहन रेखा से सिर्फ 25 किलोमीटर ही दूर है जो भारत और चीन को बांटती है। सात अप्रैल तक दलाई लामा तवांग में रुकेंगे। 10 अप्रैल को दिरंग और 11 अप्रैल को बोमदिला में शिक्षा देने बाद वह अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर पहुंचेंगे।