भारत के खिलाफ युद्ध की सलाह देने वालों को चीन ने फटकारा

नई दिल्ली (14 सितंबर): डोकलाम विवाद के खत्म होने के बाद पहली बार चीन की तरफ से कोई बड़ी प्रतिक्रिया सामने आई है। रिपोर्ट के अनुसार, डोकलाम एपिसोड पर भारत के खिलाफ मिलिट्री एक्शन की मांग करने वाले सैनिकों से चीनी सरकार नाराज है।

पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के रणनीतिकार मेजर जनरल कियाओ लिआंग ने ग्लोबल टाइम्स में एक लेख में लिखा है कि भारत और चीन दोनों पड़ोसी और प्रतिद्वंदी है, लेकिन सभी प्रतिद्वंदी को दुश्मन की तरह नहीं देखा जा सकता। आगे लिखा गया है कि भारत विरोधी टिप्पणी कर रहे लोगों को चीन की रणनीतिक स्थित की समझ नहीं है।

पीएलए के वरिष्ठ अधिकारी होने के कारण उन्हें चीनी सत्ता के करीब माना जाता है और ऐसा भी कहा जा सकता है कि वह चीनी सरकार के इशारों पर ऐसा बोल रहे हैं। गौरतलब है कि चीनी सरकार पर भारत के खिलाफ कार्रवाई न करने को लेकर दबाव है। चीनी सैनिक, अपनी सरकार से इस बात को लेकर नाराज हैं कि सरकार ने डोकलाम विवाद पर भारत के खिलाफ कार्रवाई न करके समझौता क्यों किया।