गत्ता और जानवरों की चर्बी से चीन बना रहा है ब्रेड

नई दिल्ली (26 दिसंबर): चावल और अंडों के अलावा चीन में जिस ब्रेड से सैंडविच तैयार की जाती है, उसकी सच्चाई जानकर आप चौंक जाएंगे। चीन में यह ब्रेड आंटा या मैदा से नहीं बल्कि गत्ता और जानवरों की चर्बी से बनाई जा रही है। जी हां, गेंहू या मैदे से ब्रेड बनाने की तकनीक चीन में पुरानी पड़ चुकी है। चीन ब्रेड बनाने के लिए लेकर आया है एक नई तकनीक, जिसमें आंटा या मैदा नहीं बल्कि गत्ते और केमिकल का इस्तेमाल कर रहा है।

चीन में ये खबर लोगों के लिए चर्चा का विषय बन गई है। हर कोई हैरान है और सबकी जुबान पर सवाल यही कि आखिर ऐसा हो कैसे सकता है। लेकिन सच यही है कि ऐसा हो रहा है। देखने में और स्वाद में चीन की ब्रेड भी बिल्कुल आम ब्रेड के पैकेट की तरह होती है, लेकिन इसके भीतर भरा होता है ऐसा धीमा जहर जो किसी को भी अस्पताल की चौखट तक पहुंचा सकता है।

कैसे बनती है चीन में गत्ते वाली ब्रेड...

- गत्ते को पहले एक खास तरह के केमिकल में कुछ दिनों के लिए मिलाकर छोड़ दिया जाता है।

- जब गत्ता बिल्कुल गल जाता है, तो ब्रेड में जानवरों की चर्बी मिलाई जाती है, जिससे मिश्रण बिल्कुल ही मुलायम हो जाए।

- इसके बाद इसकी महक खत्म करने के लिए फ्लेवर्ड पाउडर मिला दिया जाता है।

- ब्रेड को चमकदार बनाने के लिए साठ प्रतिशत तक गत्ते का इस्तेमाल किया जाता है।

- जबकि 40 प्रतिशत हिस्सा जानवरों की चर्बी का होता है।

- ताकि गत्ते को बिल्कुल ही मुलायम किया जा सके और लोगों के खाने से भी ब्रेड के नकली होने का पता बिल्कुल न चले।