पाकिस्तान पर कब्जे की तैयारी में चीन

नई दिल्ली ( 7 जून ): पेंटागन ने दावा किया है कि आने वाले दिनों में चीन पाकिस्तान में अपना मिलिटरी बेस बना सकता है। चीन इन दिनों विदेशों में अपने ज्यादा से ज्यादा सैन्य अड्डे बनाने की कोशिश कर रहा है। पेइचिंग ने हाल ही में अफ्रीका के एक देश जबूटी में अपना मिलिटरी बेस स्थापित किया है।

कहा जा रहा है कि आने वाले दिनों में पाकिस्तान सहित कई अन्य देशों में भी वह इसी तरह से सैन्य अड्डे बना सकता है। पेंटगन ने मंगलवार को जारी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी है। अगर चीन ऐसा करता है, तो भारत की सामरिक चुनौतियां और बढ़ जाएंगी।

पेंटगन ने 97 पन्नों की एक अपनी एक रिपोर्ट में यह अनुमान जताया है। यह रिपोर्ट अमेरिकी कांग्रेस के सामने पेश की गई है। इसमें पिछले साल चीन की सेना द्वारा की गई गतिविधियों का जिक्र किया गया है। अमेरिका के मुताबिक, चीन ने अपने सुरक्षा खर्च में जमकर खर्च किया है। पेंटगन की रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन ने इस क्षेत्र में 115 खरब से भी ज्यादा का बजट खर्च किया है। चीन अपने आधिकारिक रक्षा बजट की रकम 90 खरब के करीब बताता है, लेकिन पेंटगन रिपोर्ट के मुताबिक चीन अपनी सेना व रक्षा जरूरतों पर इससे कहीं ज्यादा खर्च कर रहा है।

अमेरिकी रिपोर्ट के मुताबिक, एक ओर जहां चीन में आर्थिक विकास की रफ्तार धीमी हो रही है, वहीं उसके नेता डिफेंस बजट को और ज्यादा बढ़ाने के पक्षधर हैं। पिछले साल चीन और पाकिस्तान के बीच एक समझौता हुआ, जिसके मुताबिक चीन पाकिस्तान को 8 पनडुब्बियां बेचेगा। अमेरिका ने अपनी रिपोर्ट में चीन की सेना द्वारा समुद्र और अंतरिक्ष में शुरू किए गए अभियानों का विस्तार से जिक्र किया है। इसमें यह आरोप भी लगाया गया है कि चीन के हैकर्स अमेरिकी सरकार के कंप्यूटर्स में सेंध लगाने की कोशिश कर रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि इन चीन हैकिंग के द्वारा अमेरिका से जुड़ी संवेदनशील जानकारियां हासिल करने की कोशिश कर रहा है।