प्रचण्ड चले ओली की राह, भारत से ज्यादा चीन को तरजीह !

नई दिल्ली (17 अगस्त): नेपाल में माओवादी पार्टी प्रमुख पुष्प कमल दहल उर्फ प्रचंड के नेतृत्व वाली सरकार ने ऐसे संकेत दिए हैं कि द्व‍िपक्षीय रिश्तों के मामले में वह भारत से ज्यादा चीन को तरजीह दे सकती है।  चीन की यात्रा पर पहुंचे नेपाल के उप-प्रधानमंत्री ने चीन को आश्वस्त किया है कि विदेश नीति के मामले में उनका देश चीन को प्राथमिकता देगा और नेपाल अब भी 'वन चाइना' पॉलिसी से बंधा हुआ है।

दरअसल, प्रचंड से पहले नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली चीन के काफी करीबी थे और उनके जाने के बाद नेपाल और चीन के रिश्तों को लेकर चिंता जताई जा रही थी। हालांकि, चीन के दौरे पर पहुंचे प्रचंड के खास दूत और नेपाल के उप-प्रधानमंत्री कृष्ण बहादुर महारा ने चीन को इस बारे में आश्वस्त किया। चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी सिन्‍हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, बुधवार को उन्होंने चीन के प्रधानमंत्री ली क्विंग से मुलाकात की और ये बातें कहीं।