भारतीय जनता के इस कदम से बौखलाया चीन

नई दिल्ली (14 अक्टूबर): चाइनीज प्रोडक्ट के विरोध में फेसबुक और दूसरी सोशल साइट्स पर चल रही मुहिम से ड्रैगल बौखला गया है। चीनी मीडिया ने अपनी सरकार को सलाह दी है कि भारत और अमेरिका चीनी सामानों के आयात पर नियंत्रण लगा रहे हैं। साथ ही एंटी-डंपिंग ड्यूटी लगाकर चीनी सामान के आयात पर रोक लगाने की कोशिश की जा रही है।

'ग्लोबल टाइम्स' के मुताबिक, भारत और अमेरिका की आर्थिक नीतियों ने प्रतियोगिता बढ़ा दी है। इससे चीनी कारोबार पर सीधा असर पड़ा है। भारत अपने घरेलू उद्योगों को बचाने के लिए संरक्षणवादी कदम उठा रहा है। अखबार ने लिखा कि भारत और अमेरिका ने चीनी उत्पादों पर सबसे ज्यादा जांच बिठाई है, ऐसे में चीन के अधिकारियों को नई दिल्ली और वॉशिंगटन पर दबाव बनाना चाहिए। 'ग्लोबल टाइम्स' के मुताबिक, चीन दुनिया में सबसे बड़ा निर्यातक है साथ ही भारत और अमेरिका उसके सबसे बड़े साझीदार हैं।

क्यों हो रहा मेड इन चाइना का विरोध? चीन के अड़ियल रवैये के चलते न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (एनएसजी) में भारत की एंट्री में रुकावट के बाद से देश में चाइनीज प्रोडक्ट्स की बिक्री पर बैन की मांग जोरों पर हैं। पाक अधिकृत कश्मीर में किए गए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद चीन भारत के खिलाफ जाकर पाकिस्तान का सपोर्ट कर रहा है। इससे भारत में चीन का विरोध होना शुरू हो गया है।