ताइवान दल के भारत दौरे से चीन के उड़े होश

नई दिल्ली (15 फरवरी): एक बार फिर चीन और भारत के रिश्‍तों में खटास देखी जा सकती है। इस बार चीन ने भारत को कहा है कि वो ताइवान कार्ड खेलना बंद करे, इस मुद्दे को छेड़ने पर उसे नतीजे भुगतने होंगे। 12 फरवरी को ताइवान के 3 मेंबर्स के वुमंस पार्लियामेंट्री डेलिगेशन ने भारत का दौरा किया था। इसी वजह से चीन ने भारत से नाराजगी जाहिर की है।

चीन ने ताइवान मुद्दे को लेकर अपने सरकारी अखबार 'ग्लोबल टाइम्स' में आर्टिकल लिखा है। इसके मुताबिक, "अगर भारत ताइवान कार्ड खेलता है तो ये उसका आग से खेलने जैसा होगा। नई दिल्ली को इसके गंभीर नतीजे भुगतने होंगे।"

भारत-ताइवान रिलेशन को लेकर जताई नाराजगी

- ग्लोबल टाइम्स ने लिखा, "भारत-ताइवान के बीच हाईलेवल बातचीत हमेशा से नहीं रही। फिर भारत ने ताइवान के डेलिगेशन को क्यों इनवाइट किया?"

- "ये पहली बार है कि भारत ने ताइवान में साई इंग-वेन के प्रेसिडेंट बनने के बाद कोई डेलिगेशन बुलाया हो।"

- बता दें कि वेन पिछले साल ही प्रेसिडेंट चुने गए थे। वे लंबे वक्त से चीन से ताइवान की आजादी की बात कहते रहे हैं।