चीन ने जिबूती में खोला अपना पहला विदेशी सैन्य अड्डा

नई दिल्ली ( 1 अगस्त ): चीन ने मंगलवार को अफ्रीका के जिबूती में अपने पहले विदेशी सैन्‍य अड्डे को एक ध्‍वजारोहण क्रार्यक्रम के साथ औपचारिक रूप से खोल दिया। आज ही के दिन चीनी सेना (पीपुल्‍स लिबरेशन आर्मी) अपना स्‍थापना दिवस भी मनाती है। समारोह में 300 से ज्‍यादा लोग शामिल हुए, जिबूती के रक्षा मंत्री भी मौजूद थे।

गौरतलब है कि रणनीतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण जिबूती हिंद महासागर के उत्तर-पश्चिमी छोर पर स्थित है। यहां पर चीनी सैन्य मौजूदगी से भारत के हितों को नुकसान पहुंचने की आशंका है।

दरअसल यह वह इलाका है, जहां से होकर भारत के व्यापारिक जहाज बड़ी संख्या में गुजरते हैं। चीन ने पिछले साल जिबूती में रसद पहुंचाने का अड्डा विकसित करने का कार्य शुरू किया था। यहां से उसकी यमन और सोमालिया में मानवीय सहायता उपलब्ध कराने और आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की योजना है। दोनों ही देश अशांत माने जाते हैं। वास्तव में यह चीन का नौसैनिक अड्डा है, जिसे वह व्यापारिक कार्यो और मानवीय सहायता के लिए इस्तेमाल करने की बात कहता है।