चीन के पहले एयरक्राफ्ट कैरियर ने दक्षिण कोरिया के पास यलो सी में की ड्रिल

नई दिल्ली(25 दिसंबर): चीन के पहले एयरक्राफ्ट कैरियर लियोनिंग ने अब साउथ कोरिया के पास यलो सी में फाइटर ड्रिल्स की हैं। जिसमें कई डेस्ट्रॉयर्स और फ्रिगेट्स ने भी हिस्सा लिया।

- बता दें कि बीजिंग और वॉशिंगटन के बीच ताइवान और विवादित साउथ चाइना सी को लेकर तनाव हाल के दिनों में काफी बढ़ गया है।

- चीन की डिफेंस मिनिस्ट्री ने कहा है कि लियोनिंग कैरियर ग्रुप का एक्सरसाइज शेड्यूल इस एरिया में आगे भी जारी रहेगा। चीन की इन ड्रिल्स को ताकत की आजमाइश माना जा रहा है। इससे पहले चीन ने कोरियन पेनिनसुला के पास बोहाई सी में लाइव एम्युनिशन ड्रिल की थी।

- चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ ने अपनी एक रिपोर्ट में मिलिट्री ऑफिशियल्स के हवाले से इस एक्सरसाइज का खुलासा किया है।

- रिपोर्ट के मुताबिक एयरक्राफ्ट कैरियर लियोनिंग, ड्रेस्टॉयर्स और फ्रिगेट्स पिछले हफ्ते से ही ट्रेनिंग और टेस्टिंग मिशन पर थे।

- इस नेवल एक्सरसाइज में कई J-15 फाइटर जेट्स और हेलिकॉप्टर्स भी शामिल हुए।

- चीन की मिलिट्री ने शुक्रवार को अपने बयान में कहा, " अमेरिका के साथ तनाव के बीच हमारे पहले एयरक्राफ्ट ग्रुप ने यलो सी में फाइटर लॉन्च, रिकवरी और एयर कॉम्बैट एक्सरसाइज की सीरीज चलाई।"

- यलो सी ईस्ट चाइना सी के नॉर्थ में और साउथ कोरिया के पास है। यह पैसिफिक ओशन का इनलेट (घुसने का रास्ता) भी है। यह चीन के वेस्ट-नॉर्थ और कोरियन पेनिनसुला (प्रायद्वीप) के बीच है।