चीन ने भारतीय सीमा पर तैनात सैन्य कमान की रैंक बढ़ाई

नई दिल्ली (13 मई): चीन ने भारत के साथ लगी अपनी सीमा में सुरक्षा को लेकर एक बड़ा कदम उठाया है। चीन ने सीमा की सुरक्षा करने वाली तिब्बत सैन्य कमान को पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के जमीनी बलों के तहत शामिल कर दिया है। इसके अलावा उसका स्तर भी बढ़ाया गया है। 

रिपोर्ट के मुताबिक, चीन ने कहा है कि यह कमान ‘‘भविष्य में किसी सैन्य युद्धक अभियान’’ को भी हाथ में ले सकती है। चीन ने तिब्बत सैन्य कमान (टीएमसी) का स्तर ऊंचा कर दिया है।

‘चाइना यूथ डेली’ के हवाले से बताया गया है, "‘टीएमसी का राजनीतिक ओहदा उसकी समकक्ष प्रांत स्तर की सैन्य कमानों से एक स्तर ऊंचा कर दिया जाएगा। यह पीएलए की अगुवाई में आ जाएगी।’’ अचानक की गई इस ‘पदोन्नति’ को कई पर्यवेक्षक हैरानी की नजर से देख रहे हैं। इसका कारण है कि पीएलए इस साल के सुधार के तहत अधिकतर प्रांतीय सैन्य कमानों को केंद्रीय सैन्य आयोग (सीएमसी) के नए नेशनल डिफेंस मोबिलाइजेशन डिपार्टमेंट के नियंत्रण में लेकर आई है।

सीएमसी दरअसल पीएलए की सबमें ऊंची कमान है। इसकी अध्यक्षता सीधे राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा की जाती है, जो सत्ताधारी कम्यूनिस्ट पार्टी के प्रमुख भी हैं।

रिपोर्ट में ‘इस मामले के करीबी सूत्रों’ के हवाले से बताया गया, ‘‘वहीं, दूसरी ओर टीएमसी चीनी जमीनी बलों के अंतर्गत है। इसका अर्थ यह है कि वह भविष्य में किसी सैन्य युद्धक अभियान को अपने हाथ में ले सकती है।’’ बहरहाल, इसकी विस्तृत जानकारी नहीं दी गई कि ‘सैन्य युद्धक अभियान’ क्या होगा? वरिष्ठ सैन्य पर्यवेक्षकों ने इस रिपोर्ट को उलझाव से भरी बताया है।