दक्षिण चीन सागर में चीन ने तैनात की क्रूज मिसाइलें, बढ़ी तनातनी

नई दिल्ली (03 मई): चीन ने दक्षिण चीन सागर में अपने तीन ठिकानों पर जहाजरोधी क्रूज मिसाइलें और जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल प्रणाली तैनात कर दी है। अमेरिकी न्यूज नेटवर्क सीएनबीसी ने अमेरिकी खुफिया सूत्रों के हवाले से यह दावा किया है। इसकी पुष्टि होती है तो यह विवादित क्षेत्र में स्थित छोटे द्वीपों पर चीन की मिसाइल प्रणाली की पहली तैनाती होगी।

सीएनबीसी की रिपोर्ट के अनुसार चीन ने वाय जे-12बी जहाजरोधी मिसाइल तैनात की हैं, जो 295 समुद्री मील की दूरी तक जहाजों पर हमला कर सकती है। सतह से हवा में मार करने वाली एच क्यू-9बी मिसाइल भी तैनात की गई है जो 160 समुद्री मील तक विमानों, ड्रोन और क्रूज मिसाइलों पर हमला कर सकती है।

चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग से जब गुरुवार को पत्रकारों ने मिसाइलों की तैनाती के बारे में सवाल किया तो उन्होंने कहा, 'चीन का नान्शा (स्पार्टली के नाम से जाना जाता है) द्वीप और उससे जुड़े द्वीप समूहों पर निर्विवाद संप्रभुता है।' बता दें कि वियतनाम और ताइवान स्पार्टली द्वीप समूह पर अपना दावा करते हैं।चुनयिंग ने कहा, 'साउथ चाइना सी में चीन की गतिविधियां हमारी संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को बरकरार रखने के लिए है। यह हमारा अधिकार है।' एक तरह से मिसाइलों की तैनाती की पुष्टि करते हुए उन्होंने कहा, 'तैनाती किसी भी देश के खिलाफ नहीं है। संबंधित पक्षों को इसे लेकर चिंतिति नहीं होना चाहिए।'